DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोबाइल के सहारे जंगली हाथियों से निपटने की नीति

झारखंड वन विभाग जंगलों से सटे गांवों में मुफ्त मोबाइल फोन का वितरण कर रहा है कि ताकि गांवों की ओर रुख करने वाले हाथियों के बारे में तत्काल फोन करके उसके खतरे से ग्रामीणों को बचाया जा सके। वन विभाग के मुख्य संरक्षक ए. के. सिंह ने बताया, ‘हर गांव में संयुक्त वन एवं ग्रामीण रक्षा समिति (जेएफवीडीसी) के एक सदस्य को मोबाइल फोन दिया जा रहा है।

मोबाइल में वन विभाग के सभी प्रमुख नंबर हैं ताकि हाथियों के बारे में सूचना वन अधिकारियों को मिल सके।’ उन्होंने कहा, ‘हमने एक उडमन दल का गठन भी किया है, जो गांव में हाथियों के प्रवेश करने पर तत्काल पहुंचेगा। उडमन दल हाथियों से ग्रामीणों को बचाने का काम करेगा।’ अब तक राज्य में 100 से अधिक मोबाइल फोनों का वितरण किया जा चुका है।

वन विभाग ने हाथियों के खतरे को देखते हुए 600 गांवों की एक सूची बनाई है। मोबाइल फोनों का वितरण इन्हीं गावों में किया जा रहा है।नवंबर, 2000 में झारखंड के गठन के बाद से यहां जंगली हाथियों के कुचलने से 679 लोग मारे जा चुके हैं और 1,020 घायल हुए हैं। (आईएएनएस)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मोबाइल के सहारे जंगली हाथियों से निपटने की नीति