DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शेयर बाजारों में जोरदार गिरावट

शेयर बाजारों में जोरदार गिरावट

वैश्विक शेयर बाजारों में चौतरफा गिरावट और भारी बिकवाली के दबाव में मुंबई शेयर बाजार का सूचकांक सेंसेक्स 15 हजार अंक और नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी 4400 अंक से नीचे उतर गया।

रियलटी धातु आटो तेल एवं गैस तथा बैंकिंग में विदेशी संस्थागत निवेशकों की भारी बिकवाली से सेंसेक्स 626 अंक ढह गयाऔर नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी 192 अंक टूट गया। देश में मानसून की बरसात कम होने के आंकड़ों ने घरेलू शेयर बाजारों पर दबाव बना दिया है जिससे हर तरफ गिरावट का रुख बना हुआ है।

बीएसई में सुबह कारोबार के शुरू होने के साथ बाजार में नकारात्मक रुख बन गया। बीएसई का कारोबार 127.40 अकों कीगिरावट के साथ 15284.23 अंक से शुरू हुआ जोकि इसका उच्चतम स्तर भी बना रहा। कारोबार के दौरान सेंसेक्स ने 14740.63 के निचले स्तर को भी छुआ। कारोबार के अंत तक यह 4.07 प्रतिशत अर्थात 626.71 अंक गिरकर 14784.92अंक पर बंद हुआ। पिछले कारोबारी दिवस में यह 15411.63 अंक पर बंद हुआ था।

एनएसई में भी निफ्टी कारोबार नकारात्मक में 1.25 की गिरावट के साथ 4578.80 अंक से शुरू हुआ। कारोबार के दौरानइसने 4578.80 के उच्चतम और 4374.60 अंक के निम्नतम स्तर को छुआ। कारोबार के अंत में यह 4.20 प्रतिशत अर्थात127.40 अंक घटकर 4387.90 अंक पर बंद हुआ। पिछले कारोबारी दिवस में यह 4580.05 अंक पर रहा था।

वैश्विक मंदी के गहराने की आशंका से दुनिया भर के शेयर बाजारों में भारी गिरावट दर्ज की गई। अमेरिका में डाव जोंस 1.9 प्रतिशत प्रतिशत और नास्दाक दो प्रतिशत की गिरावट में रहा। यूरोप का एफटीएसईयूरोनेस्क्ट दो प्रतिशत और बिटेन का एफटीएसई 1.2 प्रतिशत नीचे बंद हुए। एशियाई बाजारों में हांगकांग का हैंगसैंग 3.6 प्रतिशत चीन का शंघाई कंपोजिट 5.8 प्रतिशत और जापान का निक की 3.1 प्रतिशत ढह गया। आस्ट्रेलिया का आस्सी 1.6 प्रतिशत गिरावट में दर्ज किया गया।
 
सेंसेक्स 22 जुलाई के बाद 15 हजार के अंक से नीचे उतरा है। इस बीच वित्तीय सलाहकार संस्था नौमुरा का मानना है किभारत में इस वर्ष मानसून के दौरान अल्प बारिश के चलते आर्थिक वृद्वि दर चालू वित्त वर्ष 5.5 फीसदी रह सकती है और मुद्रास्फीति बढ़ने की संभावनाओं के मद्देनजर अगले वर्ष के शुरू में दामों में बढ़ोत्तरी हो सकती है।

जेपी मोर्गन के एक सर्वेक्षण में कहा गया है कि देश में बेहतर आर्थिक संभावनाओं के मद्देनजर निवेशकों में खासा उत्साहहै। जेपी मोर्गन संपदा प्रबंधन की ओर से जारी ताजा सर्वेक्षण वैल्यूनोट्स के मुताबिक निवेशक देश के मौजूदा आर्थिक माहौल में निवेश की बेहतर संभावनाएं देख रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार खासतौर पर खुदरा निवेशक वित्तीय सलाहकार संस्थाओं की तुलना में निवेश के प्रति ज्यादा उत्साहित नजर आ रहे हैं। खुदरा निवेशकों को आशा है कि घरेलू शेयर बाजारों के प्रमुख सूचकांक दिसंबर तक 16 से 17 हजार के स्तर तक पहुंच जाएंगे।

बीएसई में कारोबार के दौरान कुल 2676 कंपनियों में कामकाज हुआ जिसमें से केवल 674 को लाभ और 1920 को नुकसान उठाना पड़ा। शेष 73 कंपनियों के शेयरों के भावों में कोई बदलाव नहीं हुआ। मिड कैप में 3.90 प्रतिशत अर्थात 218.30 अंक घटकर 5385.51 अंक पर रह गया और स्माल कैप 3.13 प्रतिशत अर्थात 200.85 अंक गिरकर 6211.71 अंक पर रह गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शेयर बाजारों में जोरदार गिरावट