DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो सेवानिवत्त इंजीनियरों समेत सिंचाई विभाग के 16 इंजीनियर निलंबित

वाराणसी से लगभग 125 किलोमीटर दूर बलिया जिले के टीएस बंधे के चांदपुर कार्यस्थल पर करोड़ों रुपये के पत्थरों की हेराफेरी और सिंचाई विभाग के सोलिंग तथा नहर सफाई समेत कई मामलों में अनियमितता पाये जाने पर शासन ने बाढ़ तथा सिंचाई विभाग के16 इंजीनियरों को निलंबित कर दिया है। इनमें दो मुख्य इंजीनियर भी शामिल हैं जो सेवानिवृत्त हो चुके हैं।

 
सूत्रों ने बताया कि एक राजनीतिक दल ने प्रदेश के मुख्य सचिव को 11 सितंबर 08 को तथा मुख्यमंत्री को 15 अक्तूबर 08 को पत्र लिख कर नदी के चांदपुर कार्यस्थल पर करोड़ों रूपये के पत्थरों की हेराफेरी समेत कई मामलों में अनियमितता का आरोप लगाते हुए जांच की मांग की थी ।
   
इस मार्च और अप्रैल में प्रमुख सचिव हरमिंदरराज सिंह और प्रमुख सचिव (होमगार्ड) जीपी वर्मा ने स्थलीय निरीक्षण किया। उधर शासन ने मुख्य इंजीनियर (गंडक) गोरखपुर को जांच का निर्देश दिया।
   
राज्य सरकार के तत्कालीन सिंचाई सचिव और तत्कालीन प्रमुख इंजीनियर (सिंचाई) ने अलग—अलग इस मामले की तकनीकी जांच करने की जिम्मेदारी मुख्य तकनीकी अधिकारी आर पी राम को सौंपी। राम ने अपनी रिपोर्ट शासन को सौंप दी। उसके बाद शासन ने संबन्धित इंजीनियरों के निलंबन का निर्णय लिया। मुख्य इंजीनियर (गंडक) गोरखपुर राधा चरण ने 16 इंजीनियरों के निलंबन होने की पुष्टि की है। निलंबित इंजीनियरों में दो सेवानिवत्त इंजीनियर भी शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो सेवानिवत्त इंजीनियरों समेत सिंचाई विभाग के 16 इंजीनियर निलंबित