DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘मुशर्रफ के आपातकाल के खिलाफ थे सैन्य कमांडर’

‘मुशर्रफ के आपातकाल के खिलाफ थे सैन्य कमांडर’

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ को सैन्य कमांडरों ने वर्ष 2007 में आपातकाल लगाने के लिए कभी भी औपचारिक समर्थन नहीं दिया था।

पाकिस्तान के अखबार ‘द न्यूज’ की खबर में रक्षा मंत्रालय के उच्च पदस्थ अधिकारियों के हवाले से बताया गया कि कमांडरों के किसी भी सम्मेलन के एजेंडे में तीन नवंबर 2007 को अस्थाई संवैधानिक आदेश पीसीओ लगाने का एजेंडा शामिल नहीं था।

जनरल मुशर्रफ ने कमांडरों के 104वें सम्मेलन की अध्यक्षता की थी और यह उनकी अध्यक्षता में हुआ अंतिम सम्मेलन था। जनरल मुशर्रफ ने आपातकाल लगाने का रंच मात्र भी संकेत नहीं दिया था जो न्यायपालिका के खिलाफ मार्शल लॉ जैसा था। सुप्रीम कोर्ट इस आपातकाल को असंवैधानिक करार दे चुका है।

सूत्रों ने बताया कि सम्मेलन के मिनट्स रिकार्ड में दर्ज है, लेकिन गुप्त दस्तावेज घोषित किए जाने के कारण उसे सार्वजनिक नहीं किया गया। अलबत्ता इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशन्स (आईएसपीआर) ने सम्मेलन की कुछ जानकारियां जारी कीं थीं। आईएसपीआर के महानिदेशक मेजर अतहर अब्बास ने इस बारे में कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, लेकिन उन्होने इस बात की पुष्टि की कि सम्मेलन के मिनट्स रिकार्ड किए गए थे लेकिन इसका खुलासा नहंी किया गया।

सूत्रों ने बताया कि इस सम्मेलन में जनरल हेडक्वार्टर के सभी प्रिंसिपल स्टाफ आफिसर मौजूद थे। जनरल मुशर्रफ आपातकाल लगाने की अपनी योजना पर इन अधिकारियों के साथ अनौपचारिक बातचीत में विचार-विमर्श कर सकते थे, लेकिन इसका कोई भी रिकॉर्ड नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘मुशर्रफ के आपातकाल के खिलाफ थे सैन्य कमांडर’