DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मकान ढहा, महिला समेत दो बच्चियों की मौत

शहर के पॉश इलाके सेक्टर-15 में जीर्णोद्धार किया जा रहा एक दो मंजिला मकान अचानक ढह गया। जिसके चलते वहां काम कर रही एक महिला समेत दो बच्चियों की मौत हो गई। मलबे में दबे आधा दर्जनों घायल मजदूरों को सकुशल बाहर निकाल लिया गया। जिन्हें इलाज के लिए बादशाह खान अस्पताल में दाखिल कराया गया है।

घटना की सूचना मिलते ही फायर ब्रिगेड की टीम समेत पुलिस वाले मौके पर पहुंचे। मलबे में फंसे मजदूरों व शवों को निकालने के लिए पुलिस को जेसीबी व क्रेन की मदद लेनी पड़ी। संसाधनों की कमी व ठोस रणनीति न होने के कारण बारिश में पुलिसवालों को मलबा हटाने में करीब आठ घंटे की कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

सेक्टर-15 के गवर्नमेंट कंट्रैक्टर आर.के. गांधी अपने मकान नंबर-1557 का जीर्णोद्धार करा रहे थे। मकान में पिछले दो महीनों से काम चल रहा था। रविवार सुबह 11.20 बजे मकान के आगे का हिस्सा अचानक ढह गया। उस समय मकान में करीब एक दर्जन मजदूर काम कर रहे थे। मकान गिरता देख कुछ मजदूर पिछले हिस्से की ओर भाग गए। कुछ मलबे में दब गए।

वहां काम कर रहे केदार नाथ समेत तीन मजदूर गंभीर रुप से चोटिल हो गए। जबकि रामरूप, कमल, उसकी पत्नी माया, रुमाली व चौकीदार पंचम को मामूली चोटें आई हैं। घटना में पंचम की पत्नी काशीबाई, दो साल की बेटी पूनम व कमल की ढाई साल की बेटी कुसुम मलबे के नीचे दबी रही। जिन्हें बाहर निकालने में पुलिस को कड़ी मेहनत करनी पड़ी। आठ घंटे की मशक्कत के बाद उन्हें निकाला गया। तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

चौकीदार पंचम ने बताया कि बेसमेंट के उपर तोड़फोड़ चल रही थी। बिना किसी स्पोट के नई दीवार बनाने के लिए आगे की दीवार तोड़ दी गई थी। जिसके कारण मकान ढह गया। मलबा हटाने में पुलिस को प्राइवेट जेसीबी क्रेन का सहारा लेना पड़ा। पुलिस ने मकान का निर्माण करा रहे ठकेदार कैलाश को हिरासत में ले लिया है। मौके पर मौजूद एसीपी राजकुमार व एसडीएम पुष्पेंद्र चौहान ने इस मामले में कुछ भी बोलने से मना कर दिया। अधिकारियों के मुताबिक मामले की जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। खबर लिखे जाने तक बचाव कार्य जारी था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मकान ढहा, महिला समेत दो बच्चियों की मौत