DA Image
27 फरवरी, 2020|11:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छक्के-चौके की धूम मचाते: धोनी

छक्के-चौके की धूम मचाते: धोनी

रांची जैसे छोटे शहर से आए महेंद्र सिंह धोनी की शख्सियत आज राज्य और देश की सरहद पार कर काफी आगे निकल गई है। उनकी छवि शुरुआत में एक आक्रामक बल्लेबाज के रूप में बनी किंतु आज वे एक ठंडे दिमाग वाले भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान के रूप में जाने जाते हैं। देश के लाखों नवयुवकों के लिए वे आदर्श हैं। आइये जानें इनकी कामयाबी से जुड़ी ढ़ेर सारी बातें।

धोनी ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट की शुरुआत 1998-1999 में बिहार की अंडर-19 टीम से की। इस दौरान उन्होंने 5 मैच में 176 रन बनाए।

1999-2000 में धोनी ने बिहार की ओर से रणजी ट्राफी में खेलना शुरू किया। पहले रणजी मैच में ही उन्होंने नॉट आउट 68 रन की शानदार पारी खेली।  

2000-2001 सीजन में बंगाल के खिलाफ उन्होंने अपना प्रथम क्रिकेट का पहला शतक जमाया। 2003-04 सीजन में उन्होंने आसाम के विरुद्ध रणजी एकदिवसीय मैच में शानदार 128 रन बनाए। इसके बाद वे 2003-2004 जिंबाब्वे और कीनिया के टूर पर गए भारतीय ए टीम में शामिल किए गए।
 
धोनी ने पहला एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैच 23 दिसंबर 2004 को बांग्लादेश के खिलाफ खेला। इस मैच में वे बिना कोई रन बनाए रन आउट हो गए। टेस्ट क्रिकेट में उनका पदार्पण 2 दिसंबर 2005 को श्रीलंका के खिलाफ हुआ। इस मैच में धोनी केवल 30 रन बना सके।

धोनी ने अपने पांचवें एकदिवसीय मैच में पाकिस्तान के खिलाफ 148 रन बनाए। यह किसी भी भारतीय विकेटकीपर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था।

धोनी ने एकदिवसीय मैच में 183 रनों का अपना सर्वोच्च स्कोर श्रीलंका के खिलाफ बनाया। यह दूसरी पारी में बनाया गया अब तक का सर्वश्रेष्ठ स्कोर है।   
 
20 अप्रैल 2006 को धोनी ने आईसीसी की एकदिवसीय मैचों की रैंकिंग में पहला स्थान प्राप्त किया। अपने शानदार प्रदर्शनों की बदौलत 2007 में वे भारतीय टीम के कप्तान चुने गए।

धोनी ने अपनी कप्तानी में 2007 में 20-20 का विश्व कप, 2007-08 में सीबी सीरीज, 2008 में बार्डर-गावस्कर ट्राफी जीती। उनका नाम भारत के सबसे सफल कप्तानों में लिया जाता है।

धोनी आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स टीम के कप्तान भी हैं।

धोनी की तारीफ पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने खुल कर की। वे उनके खेल के साथ-साथ खास हेयर स्टाइल के भी दीवाने हैं।

धोनी का निक नेम ‘माही’ है। वे क्रिकेट के अलावा फुटबॉल खेलने और बाइक चलाने के भी काफी शौकीन हैं।

धोनी को अपने कैरियर में बहुत सारे पुरस्कार हासिल हुए हैं। इन पुरस्कारों में 2009 को मिला पद्म श्री, 2008 में मिला राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार तथा इसी वर्ष आईसीसी वन डे प्लेयर 2008 का खिताब मिला। वे 2009 में विजडन में टेस्ट टीम के कप्तान भी चुने गए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:छक्के-चौके की धूम मचाते: धोनी