DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हिंसा का मार्ग छोड़कर मुख्यधारा से जुड़ने का आह्वान

झारखंड के राज्यपाल के. शंकरानारायणन ने राज्य में भटके हुए नव युवको को हिंसा का मार्ग छोड़कर मुख्य धारा से पुन जुड़ने का आह्वान करते हुए कहा कि उनकी उचित मांगों एवं शोषण के विरूद्ध उनकी शिकायतों को दूर किया जाएगा।

राज्यपाल ने आज यहां 63 वे स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मोरहबादी मैदान में झंडोत्तोलन करने के बाद कहा कि वह मुक्त ह्दय से हिंसा का त्याग करने वाले ऐसे नव युवकों का स्वागत करेंगे। उन्होंने कहा कि अपराध मुक्त समाज एवं अच्छी विधि व्यवस्था के अभाव में विकास का लाभ भी नागरिकों तक नहीं पहुंच पाता है। उन्होंने कहा कि पुलिस तंत्र को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि अपराध को नियंत्रित कर अपराधियों को दडिंत करने की कार्रवाई की जाए। यह सुनिश्चित किया जाएगा कि राज्य के नागरिकों को सरल पारदर्शी संवेदनशील एवं जवाबदेह प्रशासन मिले तथा भ्रष्टाचार एवं अकर्मण्यता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

राज्यपाल ने कहा कि राज्य की जनता विशेषकर लगभग 54 प्रतिशत गरीबी रेखा के नीचे जीवन बसर करने वाले व्यक्तियों,आदिम जनजातियों वृद्ध एवं निशक्त व्यक्तियों, विधवाओं एवं बेरोजगारों का सर्वागीण विकास सुनिश्चित करना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने सभी लोगों से मिलकर अपने पूर्वजों तथा स्वतंत्रता सेनानियों के सपनों को साकार करने के लिए सार्थक प्रयास करनें का अनुरोध करते हुए कहा कि वे अपनी सारी सकारात्मक एवं सृजनात्मक शक्तियों का उपयोग पूरी प्रतिबद्धता एवं समर्पण के साथ इस राज्य के सर्वांगीण एवं चहुंमुखी विकास के लिए करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हिंसा का मार्ग छोड़कर मुख्यधारा से जुड़ने का आह्वान