DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूरे जिले में रही जन्माष्टमी की धूम, दुल्हन की सजे थे सभी मंदिर

भगवान कृष्ण के प्रकट होने की खुशी में जिले का हर छोटा-बड़ा मंदिर सजा हुआ था।  कभी व्रत ना रखने वालों ने भी श्रक्रवार को जन्माष्टमी का व्रत रखा था। व्रत रखने वालों के साथ सभी भक्तों को मध्य रात्रि का इंतजार था कि कब भगवान के प्रकट होने का समय आए और उन्हें उस दिव्य अनुभूति से रूबरू होने का मौका मिले।


इस्कॉन मंदिर-- राजनगर स्थित इस्कॉन मंदिर में कृष्ण जन्मोत्सव समारोह एक सप्ताह से मनाया जा रहा है। यह भगवान के छठी तक चलेगा। शुक्रवार को जन्माष्टमी के दिन मंदिर में सुबह साढ़े चार बजे से ही पूजा शुरू हो गई। सुबह मंगला आरती, फिर दर्शन आरती, भोग आरती, शाम में गौर आरती हुई। उसके बाद शाम साढ़े आठ बजे से रात ग्यारह बजे तक भगवान का अभिषेक हुआ। रात साढ़े ग्यारह बजे से सवा बारह बजे तक श्रद्धा अभिषेक होगा। इसी समय भगवान के जन्म का भी समय है। महोत्सव में भगवान जगन्नाथ, बलदेव, सुभद्रा देवी के दर्शन, आरती, अभिषेक, कीर्तन, प्रवचन, नृत्य-नाटिका, भोग, भक्ति वेदान्त बुक ट्रस्ट के ग्रंथों का संग्रह आदि था। मंदिर की सजावट कोलकाता और बंगलुरू से मंगाए गए ताजे फूलों से किया गया है। इस पूरे महोत्सव में सबसे खास बात ताजे फूलों से  बनाया गया भगवान जगन्नाथ का बंगला रहा।  जिसमें भगवान ने जन्म के बाद विश्राम किया।


मनन धाम मंदिर-- मेरठ रोड स्थित मनन धाम मंदिर में जन्माष्टमी का समारोह शाम आठ बजे से शुरू हुआ। सायं आठ बजे से रात्रि साढ़े बारह बजे तक भजन मंडलियों ने भजन गाया। इसी दौरान छोटे बच्चों ने भगवान कृष्ण के जीवन लीला पर आधारित झंकियां प्रस्तुत कीं। रात्रि में भगवान के प्रकट होने के बाद उनकी आरती हुई, बधाईयां गायी गईं। सबसे अंत में भक्तों में प्रसाद बांटा गया।


ठाकुरद्वारा मंदिर--- पूरे मंदिर को ताजे फूलों से सजाया गया। मंदिर में शाम सात बजे से ठाकुर जी का कीर्तन हुआ। रात 12 बजे भगवान के प्रकट होने के बाद दर्शन के लिए आने वाले सभी श्रद्धालुओं को मंदिर की ओर से पंचमेवा का प्रसाद और पंचामृत बांटा गया।


मोहन नगर मंदिर--- मंदिर को ताजे फूलों से सजाया गया है। झंकियों में कृष्ण के बाल रूप से लेकर युवा अवस्था तक के रूपों को दिखाया गया है। शाम से अर्धरात्रि तक भगवान का भजन हुआ। उसके बाद भक्तों को प्रसाद बांटा गया। 


अन्य मंदिर--- शिव चौक, शालीमार गार्डन के जगदम्बा मंदिर में जन्माष्टमी के अवसर पर सुन्दर झंकियां बनाई गयी हैं। जन्मोत्सव समारोह में छोटे बच्चों ने  भगवान कृष्ण की बाल लीलाओं और महारास प्रस्तुत किया। मध्यरात्रि में सभी ने भगवान के दर्शन कर प्रसाद खाए। गांधी नगर शिव मंदिर में हर साल की तरह पूरे दिन भगवान के दर्शन के लिए लोगों का तांता लगा रहा। दूधेश्वरनाथ मठमंदिर में शाम छह बजे से रात्रि 12 बजे तक भजन कीर्तन चलता रहा। विभिन्न कलाकारों और भक्तों द्वारा भगवान की विभिन्न बाल लीलाओं को मनमोहक रूप में प्रस्तुत किया गया।


सभी मंदिरों में सुरक्षा व्यवस्था दुरूस्त थी। फस्र्टएड की पूरी व्यवस्था थी। फायर फाइटिंग स्स्टिम भी सभी मंदिरों में दुरूस्त था। मोहन नगर मंदिर और इस्कॉन मंदिर में आने वाली भक्तों की भीड़ को देखते हुए एसएसपी ने इन मंदिरों में क्लोज सर्किट कैमरे लगवाए थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पूरे जिले में रही जन्माष्टमी की धूम