DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मांगे नहीं मानी तो कामकाज ठप होगा अथॉरिटी का

पुस्तैनी आबादियों को अधिग्रहण करने को लेकर अथॉरिटी को एक बार फिर किसानों का आंदोलन ङोलना पड़ सकता है। शुक्रवार को खोदना गांव में इस मुद्दे पर चार गांवों के किसानों की पंचायत हुई। पंचायत में फैसला लिया गया कि दोबारा सर्वे कराकर आबादियों को अधिग्रहण से मुक्त नहीं किया गया तो किसान अथॉरिटी का कामकाज ठप कर देंगे।


विदित हो कि अथॉरिटी ने हाल ही में खोदना खुर्द, देवला, घंघोला समेत छह गांवों की जमीनों का अधिग्रहण किया है। इन गांवों की धारा 4 घोषित कर दी गयी है। किसानों का आरोप है कि अधिग्रहण प्रक्रिया में आम किसानों के पुस्तैनी मकान भी शामिल कर लिये गये हैं जबकि बसपा से जुड़े लोगों और अफसरों से सांठगांठ रखने वाले दलालों की जमीनों को अधिग्रहण से मुक्त कर दिया गया है। किसानों की आबादी छोड़ने को लेकर खोदना में हुए पंचायत में शामिल लोगों ने अथॉरिटी व प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर भड़ास निकाली। पंचायत की अध्यक्षता प्रधान खीमचन्द ने की और संचालन सुखबीर ने किया। इस दौरान तय किया गया कि आबादियों को अगर नहीं छोड़ा गया तो किसान अथारिटी के खिलाफ एक बार फिर आंदोलन शुरू करेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मांगे नहीं मानी तो कामकाज ठप होगा अथॉरिटी का