DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खेल और पैसे का विकट घालमेल है आईपीएल

मैचों को देश से बाहर कराने के बीसीसीआई के फैसले के समक्ष झुकने से केन्द्र सरकार ने साफ मना कर दिया है। इसके साथ ही आईपीएल के देश में आयोजन की रही-सही संभावनाएँ भी खत्म हो गई हैं। गृह मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा कि राज्यों ने चुनाव के दौरान मैचों को सुरक्षा दे पाने में असमर्थता जताई है। केंद्र के पास भी 16 मई से पहले सुरक्षा बल उपलब्ध नहीं है। चिदंबरम ने इस मुद्दे पर देश की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाने पर अरुण जेटली, नरंद्र मोदी और बीसीसीआई अध्यक्ष शशांक मनोहर पर पलटवार करते हुए कहा कि वे क्रिकेट पर राजनीति करने से बाज आएँ।ड्ढr उन्होंने कहा कि आईपीएल में क्रिकेट और पैसे का विकट घालमेल है। अब इसमें राजनीति का तड॥का लगाया जा रहा है। मैच भारत के बाहर कराने का फैसला आईपीएल और बीसीसीआई का है। हम न तो बीसीसीआई से फैसले पर पुनर्विचार करने की अपील करंगे और न ही कोई सुझाव देंगे। गृहमंत्री ने कहा कि जेटली को बातें बढ़ा-चढ़ा कर कहने की आदत है। वह भूल गए हैं कि एनडीए के ही कई नेताओं ने कहा है कि आईपीएल को चुनाव होने तक स्थगित कर दिया जाए। नरेंद्र मोदी द्वारा इसे ‘राष्ट्रीय शर्म’ कहे जाने से आहत गृह मंत्री ने पलटवार किया कि ज्यादातर लोग गुजरात में 2002 के सांप्रदायिक दंगों को राष्ट्रीय शर्म मानते हैं। उन्होंने बीसीसीआई अध्यक्ष को याद दिलाया कि बोर्ड सचिव ने चार मार्च को लिखे पत्र में कहा था कि उन्हें केंद्र से सुरक्षा नहीं चाहिए। ड्ढr अब मनोहर को राज्यों के फैसले का लिहाज करना चाहिए। ड्ढr इनसेट—ड्ढr आईपीएल यानी इंडियन पॉलिटिकल लीग!ड्ढr अगर सरकार आईपीएल को सुरक्षा नहीं दे सकती तो वह कॉमनवेल्थ खेलों का क्या करेगी। पाँच साल में संप्रग ने यही माहौल तैयार किया है कि आईपीएल देश के बाहर हो? चिदंबरम के पास डेढ़ महीना बचा है। बेहतर हो वह अपने काम पर ध्यान दें।ड्ढr भाजपा महासचिव अरुण जेटलीड्ढr भाजपा आईपीएल को इंडियन पॉलिटिकल लीग बनाने पर तुली है। उन्हें भारतीय वोटरों की चिंता नहीं है। यह मुद्दा ‘क्रिकेट हो या न हो’ का है ही नहीं। मुद्दा है कि कैसे सुरक्षित और व्यवस्थित चुनाव तय समय पर हों और मैच थोड़ा आगे-पीछे हो जाएँ।ड्ढr कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनुसिंघवीड्ढr हम बंगलुरु में सुरक्षित मैच करवाने के लिए तैयार हैं लेकिन संप्रग सरकार यह नहीं चाहती। आईपीएल देश के बाहर गई तो भारत की कमजोर छवि बनेगी। खासकर बंगलुरु पर लगा आतंकी गतिविधियों का शिकार शहर का ठप्पा और मजबूत हो जाएगा।ड्ढr कर्नाटक की भाजपा सरकारड्ढr हम 15 अप्रैल से तीन मई के बीच आईपीएल के लिए पुलिस उपलब्ध नहीं करा पाएँगे। बेहतर हो सरकार या तो 10 अप्रैल के पहले करा ले या छह मई के बाद कराए।ड्ढr

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: खेल और पैसे का विकट घालमेल है आईपीएल