class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वाइन फ्लू ने अब तक निगले 25 लोग

स्वाइन फ्लू ने अब तक निगले 25 लोग

स्वाइन फ्लू ने तीन और लोगों को अपना शिकार बनाया है जिसके साथ ही इस बीमारी से मरने वालों की संख्या देश में बढ़कर 25 हो गई है जबकि कुछ नए इलाकों में भी इस विषाणु से संक्रमित मरीज पाए गए हैं।

इस बीच सरकार ने स्वाइन फ्लू के खौफ को दूर करने के लिए इसके संदिग्ध मरीजों के इलाज के बारे में नए दिशा निर्देश जारी करने का निर्णय किया है। धरती के स्वर्ग माने जाने वाले कश्मीर से लेकर मायानगरी मुंबई सहित देश के विभिन्न इलाकों से शुक्रवार को स्वाइन फ्लू के 117 नए मामले सामने आए, जो एक दिन में सर्वाधिक हैं। इनके साथ ही इस विषाणु जनित बीमारी से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या कुल 1390 हो गई है।

देश में गुरुवार रात से 70 वर्षीय महिला पारूभाई शिंदे और 18 वर्षीय युवक सीताराम वर्मा की रायपुर तथा बिलासपुर में 40 वर्षीय सीआरपीएफ कांस्टेबल वाइ एस राव की मौत हुई है। शिंदे चार दिन पूर्व तेज बुखार और स्वाइन फ्लू के अन्य लक्षणों के साथ पुणे के अस्पताल में भर्ती कराई गईं थीं और गुरुवार रात उनकी मौत हो गई। इसके साथ ही पुणे में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 15 हो गई है।

वर्मा की गुरुवार को रायपुर और सीआरपीएफ कर्मचारी राव की शुक्रवार को संदिग्ध स्वाइन फ्लू से मौत हो गई। राव कुछ दिन पूर्व तक मुंबई में था। देश में स्वाइन फ्लू से संक्रमित लोगों की संख्या में तेजी से इजाफे के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद ने आज यहां शीर्ष स्वास्थ्य विशेषत्रों के साथ स्थिति की समीक्षा की।

आजाद की अध्यक्षता में हुई बैठक में स्वास्थ्य अनुसंधान निदेशक वी एम कटोच, एनआईसीडी निदेशक शिवलाल और देशभर के अन्य स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया। इससे पहले आजाद ने निजी स्वास्थ्य केंद्रों के साथ चार घंटे तक बैठक की और लोगों से खौफ दूर करने के लिए बीमारी से निबटने के बारे में नए कड़े दिशा निर्देश जारी करने का निर्णय किया।

मौजूदा समय में सभी स्वाइन फ्लू मरीजों को अस्पताल में टैमीफ्लू दी जा रही है लेकिन स्वीकार किए जाने पर नई व्यवस्था के तहत मरीजों का वर्गीकरण किया जाएगा और इसी के आधार पर उनका आगे इलाज होगा।

बैठक में हिस्सा लेने वाले हर्ट केयर फाउंडेशन आफ इंडिया के अध्यक्ष डा के के अग्रवाल ने कहा कि इससे परीक्षण के लिए भेजे जाने वाले और अनावश्यक इलाज पा रहे मरीजों की संख्या में कमी आएगी। पहला वर्ग उन फ्लू मरीजों का होगा जिन्हें हल्का बुखार होगा और उनकी नाक बह रही होगी। उन्होंने कहा कि उनका स्वाइन फ्लू परीक्षण या इलाज नहीं कराया जाएगा।

उन्होंने कहा कि दूसरे वर्ग में ऐसे लोग होंगे जिनमें फ्लू के लक्षण के साथ एचआईवी, मधुमेह, दिल की बीमारी वाले लोग एवं गर्भवती महिलाएं आदि शामिल होंगे जिन्हें तत्काल परीक्षण और इलाज के लिए भेजा जाएगा। एक अन्य वर्ग ऐसे फ्लू रोगियों का होगा जिनमें पांच साल से कम के बच्चे और 65 साल से अधिक के लोग होंगे। इन लोगों का स्वाइन फ्लू के लिए जांच की जाएगी और अस्पताल में भर्ती किया जाएगा।

इस बीच दिल्ली की निजी पैथोलाजिकल प्रयोगशालाओं में अगले सप्ताह से संदिग्ध स्वाइन फ्लू के नमूनों की जांच शुरू होने की संभावना है। राष्ट्रीय संचारी रोग संस्थान और स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने जांच के लिए चुनी गई निजी प्रयोगशालाओं को इन परीक्षणों के दौरान अपनाए जाने वाले दिशा निर्देशों की जानकारी दे दी है।

नए मामलों में सबसे ज्यादा 29 मामले मुंबई में मिले हैं जिसके बाद देश की राजधानी दिल्ली और हैदराबाद का नंबर हैं जहां कुल 13-13 मामले सामने आए हैं। गुजरात में 10, बेंगलूर में नौ और कोलकाता में छह नए मामले मिले हैं। महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई में 11 निजी अस्पतालों को स्वाइन फ्लू के इलाज की अनुमति दी है। राज्य की स्वास्थ्य सचिव शरवरी गोखले ने संवाददाताओं को बताया कि पुणे में चार निजी अस्पतालों और नवी मुंबई के एक अस्पताल को स्वाइन फ्लू के इलाज की अनुमति दी गयी है। इन अस्पतालों में बांबे अस्पताल, ब्रीच कैंडी, हिन्दुजा, कोकिलाबेन अंबानी, नानावती, हिरानंदानी, वोकखार्त और इनलेक अस्पताल शामिल हैं।

मुंबई में सामने आए 29 मामलों में 28 स्वदेशी हैं जबकि एक मामला सात साल के लड़के का है जिसने ब्रिटेन की यात्रा की थी। इस बीमारी से सर्वाधिक प्रभावित पुणे में आज सिर्फ चार नए मामले सामने आए। ये सभी मामले उन लोगों के हैं जिनकी विदेश यात्रा का कोई इतिहास नहीं है।
 
दिल्ली में स्वाइन फ्लू के 13 नये मामले सामने आए हैं जिनमें 11 स्वदेशी हैं। बाकी दो मामले एक 14 साल के लड़के और 19 साल के युवक के हैं। इनमें एक दुबई की यात्रा पर गया था जबकि दूसरा इस्राइल गया था। स्वाइन फ्लू की जांच करने वाले एम्स के विशेषज्ञों के दल में शामिल चिकित्सक में स्वाइन फ्लू के संदिग्ध लक्षण मिलने के बाद उसके नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं। माइक्रोलॉजी विभाग की एक प्रोफेसर और नमूनों का परीक्षण करने वाले दल की प्रमुख महिला चिकित्सक के नमूने आज जांच के लिए भेजे गए। राष्ट्रीय राजधानी के बाहरी इलाके गुडगांव में पांच स्वदेशी मामले मिले हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वाइन फ्लू ने अब तक निगले 25 लोग