DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वाइन फ्लू का डर स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रमों पर हावी

 स्वतंत्रता दिवस को लेकर पहले जैसा जोश शहर में दिख नहीं रहा। जगह-जगह सजावट हो गई है, मगर कार्यक्रम तय नहीं किए गए। स्वतंत्रता दिवस के साथ इस बार दो छुट्टियां और जुड़ गईं हैं रविवार और जन्माष्टूी की। ऐसे मौकों पर शहर के मॉल्स में खूब भीड़ भाड़ होती रही है। इसे भुनाने के लिए हर मॉल की ओर से पिछले वर्षो के दौरान शॉप एन विन और इसी किस्म के ऑफर दिए जाते थे। आने वालों से सवाल पूछ कर पुरस्कार दिए जाते थे। हालांकि मॉल्स में एंड सीजन सेल चल रही है। जन्माष्टमी, स्वतंत्रता दिवस और रविवार की तीन दिवसीय छुट्टियों को ये एंड सीजन सेल जरूर कैश करेंगे मगर मॉल्स की दिलचस्पी इस बार इस मौके का फायदा लेने में नहीं नजर आ रही है। स्वाइन फ्लू का डर कार्यक्रमों पर हावी है।


मॉल्स सजे मगर विशेष कार्यक्रम नहीं


इस बार 15 अगस्त को गहनों का मॉल गोल्डसूक बंद रहेगा। सहारा मॉल जो स्वतंत्रता दिवस के हफ्ते भर पहले देश प्रेम के नमूनों से लबरेज हो जाता था, लाल किले से लेकर कुतुब मीनार तक की झंकियां देखने लोग यहां आते थे मगर इस बार अबतक वहां कोई सजावट नहीं है। मॉल की दुकानों में अलबत्ता स्वतंत्रता दिवस दिख रहा है। मॉल प्रबंधन ने पूछे जाने पर कहा कि शुक्रवार को सजाया जाएगा। सिटी सेंटर में पहले शॉप एंड विन आदि कार्यक्रमों की बात थी मगर अंतिम क्षण में यह कार्यक्रम कैंसिल कर दिया गया। हर साल स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस यहां लाइव बैंड और कई मनोरंजक कार्यक्रम होते थे। इस मॉल को देशभक्ति के रंग में फू लों और तिरंगे कपड़ों से सजाया गया है। मेट्रोपोलिटन में बड़ी सी पतंग और बैलून  से सजाया तो गया है मगर यहां भी कोई कार्यक्रम नहीं है। दूसरे मॉल्स को सजाया भी नहीं गया है। 


खादी के नहीं प्लास्टिक के तिरंगे


 पहले खादी के तिरंगे झंडे हुआ करते थे। बाद में बच्चों के लिए कागज के तिरंगे बनने लगे। स्वतंत्रता दिवस के दिन ये कागज के झंडे हर बच्चे के हाथ में देखे जा सकते थे। इसबार सदर बाजार में प्लास्टिक पर तिरंगा छपा है और यह कागज के तिरंगों से ज्यादा बिक रहा है। स्वतंत्रता दिवस के लिए पतंगें बाजार में नजर आईं मगर उसके खरीदारों की भीड़ नही दिखी।


सिनेमा हॉल में कोई देशभक्ति से जुड़ी फिल्म नहीं


पहले 15 अगस्त या 26 जनवरी के आस-पास सिनेमाघरों में देशभक्ति से जुड़ी कोई न कोई फिल्म जरूर लगती थी। इस दिन लोगों की भीड़ भी फिल्म देखने उमड़ती थी। उस समय या उसके आस-पास या कोई पुरानी देश प्रेम की फिल्म सही सिनेमाघर लगाते जरूर थे। इस बार न तो डीटी सिनेमा के सिनेमाघर न ही पीवीआर में कोई फिल्म नजर आ रही जिसमें कहीं भी देशप्रेम का रंग हो। इन सिनेमाघरों में कमीने, लाइफ पार्टनर और लव आजकल आदि चल रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वाइन फ्लू का डर स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रमों पर हावी