DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘स्वाइन फ्लू से भी बड़ा खतरा है अफवाह’

स्वाइन फ्लू से धबराने की जरुरत नहीं। यह भी आम मर्ज की तरह है। सावधानी के साथ इलाज करने पर पांच दिनों के अंदर ठीक हो जाता है। बीमारी से ज्यादा लोग दहशत में हैं। इसके चलते अस्प्तालों की ओर दौड़ चले आ रहे हैं। यह कहना है फरीदाबाद के स्वाइन के दो कंफ्रम मरीजों का। अब दोनों ही मर्ज से उबर चुके हैं। एक मरीज और उनका परिवार तो गुरुवार को यहां इस रोग को लेकर होने वाले सेमिनार मे शरीक भी हुआ।


यहां स्वाइन फ्लू के कन्फर्म मरीजों में एक हैं सेक्टर 16 ए के अभिषेक गर्ग और दूसरे सेक्टर 29 के आलोक मित्तल। आलोक मित्तल का कहना है कि स्वाइन फ्लू के संदेह में वह 6 अगस्त को बादशाह खान अस्पताल में जांच के लिए आए थे। दिल्ली एनआईसीडी ने 7 अगस्त को जांच के बाद उन्हें इसका मरीज घोषित कर दिया था। वह एक अगस्त को इटली से लौटे थे। स्वाइन फ्लू कंफ्रम होने के बाद तो पूरा परिवार अपने मकान में पैक हो गया। उनकी बेटी की भी राम मनोहर लोहिया अस्पताल में जांच कराई गई। उनकी पत्नी एक बड़े स्कूल में टीचर हैं। पति को स्वाइन फ्लू का रोगी घोषित करने के बाद स्कूल वालों ने उन्हें जबरन छूट्टी पर भेज दिया। अब वह पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं। लोग भी उनसे मिलने में ङिाझक महसूस नहीं करते। दिल्ली आईआईटी के छात्र अभिषेक गर्ग का कहना है कि मदन मोहन मालवीय अस्पताल में पांच दिनों के इलाज में वह भी पूरी तरह ठीक हो गया। उनकी मां को पिछले कुछ दिनों से बुखार आ रहा था। अब वह भी स्वस्थ्थ हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘स्वाइन फ्लू से भी बड़ा खतरा है अफवाह’