DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुद्रास्फीति की दर अब भी शून्य से नीचे

मुद्रास्फीति की दर अब भी शून्य से नीचे

अगस्त महीने की पहली तारीख को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान मुद्रास्फीति की दर और घटकर शून्य से 1.74 फीसदी नीचे चली गई जो इससे पूर्व के सप्ताह के दौरान शून्य से 1.58 फीसदी नीचे थी।

छह जून को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान वर्ष 1995 में शुरू थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति की दर पहली बार नकारात्मक स्थिति में पहुंची थी।

इससे पहले 1977 में मुद्रास्फीति की दर नकारात्मक स्थिति में पहुंची थी। नकारात्मक मुद्रास्फीति से आशय संबंधित सप्ताह के दौरान उससे पूर्व वर्ष के उसी सप्ताह की तुलना में थोक मूल्यों में कमी होता। यह आवश्यक नहीं कि इससे खुदरा मूल्यों का पता चले।

एक अगस्त को समाप्त सप्ताह के दौरान प्राथमिक वस्तुओं और विनिर्मित वस्तुओं के सूचकांक में 0.1 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। प्राथमिक वस्तुओं का सूचकांक 262.2 (अस्थाई) से बढ़कर 262.5 हो गया जबकि विनिर्मित वस्तुओं का सूचकांक 205.6 (अस्थाई) से बढ़कर 205.9 हो गया।

ईंधन और बिजली सूचकांक में भी मामूली वृद्धि हुई और यह 338.2 से बढ़कर 338.3 हो गया। छह जून को समाप्त सप्ताह के वास्तविक आंकड़ों के मुताबिक संशोधित मुद्रास्फीति की दर शून्य से 1.01 फीसदी नीचे थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुद्रास्फीति की दर अब भी शून्य से नीचे