DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेक्सिकोः भारतीयों के सामूहिक संहार मामले में 20 बरी

मेक्सिकोः भारतीयों के सामूहिक संहार मामले में 20 बरी

मेक्सिको के सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 1997 में चियापस क्षेत्र में 45 भारतीय ग्रामीणों की हत्या के मामले में दोषी ठहराए गए 20 लोगों को मुक्त करने का आदेश दिया है। अदालत ने कहा है कि अभियोजकों ने अभियुक्तों को सजा दिलाने के लिये अवैध रूप से सबूत एकत्र किये थे।

ऐक्टील के गांव में करीब 12 साल पहले हुआ नरसंहार चियापस में हुए तनाव के दौरान हिंसा की सबसे भीषण वारदात थी। चियापस में तनाव की शुरुआत वर्ष 1994 में जपातिस्ता विद्रोहियों द्वारा भारतीयों को और ज्यादा अधिकार देने के लिये किये गए संक्षिप्त सशस्त्र विद्रोह के बाद हुई थी।

22 दिसंबर 1997 को कथित रूप से सरकार में शामिल लोगों से जुड़े अर्द्धसैनिक बलों ने विद्रोहियों के प्रति सहानुभूति रखने वाले रोमन कैथोलिक कार्यकर्ताओं पर प्रार्थना सभा के दौरान हमला किया था। हमलावरों ने 45 लोगों की हत्या कर दी थी। मरने वालों में दो महीने के बच्चे भी शामिल थे।

इस मामले में 36 से ज्यादा लोगों को अभियुक्त बनाया गया था। दोषी ठहराए लोगों में भी ज्यादातर भारतीय ही थे। सुप्रीम कोर्ट ने दोषी करार दिये गए 20 लोगों को मुक्त करने तथा छह अन्य लोगों पर नए सिरे से मुकदमा चलाने को कहा है।

कोर्ट ने अपने फैसले में कहा जांच के दौरान इन लोगों के संवैधानिक अधिकारों का हनन किया गया था और ज्यादातर मामले अवैध रूप से हासिल किये गए सुबूतों पर आधारित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मेक्सिकोः भारतीयों के सामूहिक संहार मामले में 20 बरी