DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन आईएएस समेत 15 पर मुकदमा दर्ज

तीन आईएएस समेत 15 पर मुकदमा दर्ज

उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्धनगर में बहुचर्चित 4721.14 करोड़ रुपये के जमीन आवंटन घोटले में गुरुवार को भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के तीन वरिष्ठ अफसरों समेत 15 लोगों के खिलाफ  मुकदमा दर्ज हो गया।

नगर पुलिस अधीक्षक अशोक त्रिपाठी ने बताया कि यह मुकदमा नोएडा प्राधिकरण के प्रबंधक मुकेश श्रीवास्तव की तरफ  से दर्ज कराया गया। यह मुकदमा भारतीय दंड संहिता की धारा 420, धारा 467, धारा 471 और भ्रष्टाचार निवारण कानून के 13 पीपी एक्ट में दर्ज किया गया है।

इन 15 लोगों में शामिल आईएएस अधिकारियों में नोएडा प्राधिकरण के तत्कालीन अध्यक्ष राकेश बहादुर, मुख्य कार्यपालक अधिकारी संजीव शरण और अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी के रवीन्द्र नायक हैं। इनके अलावा मेरठ के तत्कालीन मंडलायुक्त देवदत्त को भी इस घोटाले में आरोपी बनाया गया है। देवदत्त अवकाश ग्रहण कर चुके हैं।

जबकि अन्य अधिकारियों में पीसीएस अफसर एवं उपमुख्य कार्यपालक अधिकारी सीपी सिंह, मुख्य वित्त एवं लेखाधिकारी एससी संगल, लेखाधिकारी प्रतिनिधि मुख्य वित्त एवं लेखाधिकारी बीके जैन, क्षेत्रीय पर्यटक अधिकारी बी कुमार, मुख्य परियोजना अभियंता एलके गुप्ता, उपमहाप्रबंधक (औद्योगिक) डीबी मलिक, जय प्रकाश, एलके झा, मुख्य वास्तुविद नियोजक वीए देवपुजारी, एसके जमान और डेस्क ऑफिसर एसके कुलश्रेष्ठ शामिल हंै।

इनमें से एक तत्कालीन मुख्य विधि अधिकारी एसएन सेंगर पर मुकदमा अभी दर्ज नहीं हो सका है। सेंगर न्यायाधीश के पद पर नियुक्त हैं, इसलिए इलाहाबाद उच्च न्यायालय से मुकदमें की अनुमति मांगी गई है। जिन सोलह अधिकारियों के निलंबन का आदेश दिया गया, उनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराया जा रहा है। इन अधिकारियों पर होटल उद्योग के लिए भूखंडो के आवंटन में व्यापक पैमाने पर धांधली और भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तीन आईएएस समेत 15 पर मुकदमा दर्ज