DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो टूक

कहते हैं चौथा विश्वयुद्ध पानी के लिए लड़ा जाएगा। पानी के लिए तो पता नहीं, लेकिन बिजली के लिए गृहयुद्ध जैसे हालात जरूर बन गए हैं। लंबी बिजली कटौती से त्रस्त पश्चिम विहार और नांगलोई के निवासियों ने मंगलवार रात जो किया, वह दिल्ली के झंडाबरदारों के लिए खतरे की घंटी है।

पुलिस की गाड़ी को फूंकने और ढाई दर्जन बसों को नुकसान पहुंचाने की घटना से अंदाज लगाया जा सकता है कि कितनी बेबसी और क्षोभ रहा होगा जिसने लोगों को तोड़फोड़ पर मजबूर किया। हालांकि सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की ऐसी हरकत नाजायज ही है, लेकिन विचार होना चाहिए कि व्यवस्था के प्रति लोगों में इतना रोष आखिर क्यों है। क्या बिजली-पानी के ऐसे ही इन्फ्रास्ट्रक्चर के बूते दिल्ली कॉमनवेल्थ खेलों की मेजबानी करेगी?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो टूक