DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न हों हाइपरटेंशन के शिकार

यदि आप 20 साल से ऊपर हैं, आपका वजन ज्यादा है, आप परेशान रहते हैं, चिड़चिड़ा स्वभाव हो गया है और जीवनशैली शारीरिक गतिविधियों से खाली है तो यह संभव है कि आपको हाइपरटेंशन हो। हाल में एक शोध में पता लगा है कि उच्च रक्तचाप की शिकार युवापीढ़ी भी बन रही है।

जीवनशैली है प्रमुख कारण
विशेषज्ञों के अनुसार यह समस्या मानसिक व पर्यावरणीय कारणों और नए जमाने के जीने के तौर तरीकों से बढ़ी है। यह भी पाया गया है कि हाइपरटेंशन से और भी कई बीमारियां होती हैं, जैसे हृदय रोग, जिनमें शामिल हैं इस्केमिया हार्ट डिजीज, पेरिफेरल वस्कुलर डिजीज एवं मोतियाबिंद। दिल्ली हार्ट एंड लंग इंस्टीट्यूट के प्रो़ (डॉ़) के. के. सेठी का कहना है, ‘आज की पीढ़ी काम के तनाव, खानपान व नींद लेने की अनियमित आदतों, शारीरिक और मनोरंजक गतिविधियों की कमी की शिकार है।’

परहेज करें
भारतीय संदर्भ में विश्व स्वास्थ्य संघ के दिशानिर्देश के मुताबिक प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ, अचार, परांठे, चिप्स, पापड़, चटनी से परहेज करना चाहिए। घी का प्रयोग कम करना चाहिए और योग-ध्यान को अपनाना चाहिए। डॉ़ सेठी के मुताबिक, ‘यह समस्या इसलिए भी बढ़ जाती है कि हाइपरटेंशन कोई लक्षण प्रकट नहीं करती। इसलिए समय से इसका पता लगा कर उपचार करना संभव नहीं हो पाता।’

लक्षण
डॉक्टर कहते हैं कि इसके कुछ सामान्य लक्षण जैसे -सिरदर्द, सिर व आंखों में भारीपन, आलस्य, चिड़चिड़ापन, सामान्य कमजोरी, चक्कर आना, नकसीर, पेशाब में खून आना या छाती में दर्द होते हैं। चूंकि इन लक्षणों को किसी और मर्ज का लक्षण भी समझ जा सकता है, इसलिए हाई ब्लड प्रेशर पता करने का सबसे सरल माध्यम है नियमित जांच।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:न हों हाइपरटेंशन के शिकार