DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सोन नहर प्रणाली में लागू हुआ तातील सिस्टम

 बिहार के किसानों को अब पानी के लिए भी लोड शेडिंग का सामना करना पड़ेगा। जल संकट से जूझ रहे जल संसाधन विभाग ने किसानों को अधिक सुविधा देने के लिए पानी आपूर्ति में ‘तातील सिस्टम’ लागू किया है। इसमें कुछ नहरों को बंद कर कुछ नहरों को पानी की आपूर्ति की जाएगी और फिर पहले वालों को बंद कर दूसरे नहरों को। यह क्रम से लागू होगा।

इससे हर क्षेत्र को अधिक पानी की आपूर्ति हो सकेगी। इस समय सभी नहरों को थोड़ा-थोड़ा पानी देने से उसका बेहतर उपयोग नहीं हो पाता। ऐसे में तातील सिस्टम से किसान अधिक लाभ ले सकेंगे। अधिकारियों का मानना है कि सूखे से परेशान किसानों को सिंचाई के लिए कम उपलब्धता में अधिक पानी देने का सबसे उपयोगी सिस्टम है। उधर विभाग ने पटना मुख्य नहर के बलिदाद लॉक पर जलस्नव बढ़ाने का निर्णय लिया है।

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार मध्य और दक्षिण बिहार में किसानों को सिंचाई के लिए पानी देने में अधिक परेशानी हो रही है। यहां सोन नदी में पानी की उपलब्धता काफी कम हो गई है। इन्द्रपुरी बराज पर उपलब्ध 5920 क्यूसेक पानी में से सोन नहर प्रणाली के पूर्वी लिंक नहरों में 1910 क्यूसेक और पश्चिमी लिंक नहरों में 4010 क्यूसेक पानी दिया जा रहा है।

कम पानी के कारण इन नहरों में तातील सिस्टम लागू किया गया है। सोन पूर्वी लिंक नहर से पटना मुख्य नहर में बारुण लॉक पर 377 क्यूसेक पानी प्रवाहित किया जा रहा है जबकि बलिदाद लॉक पर पानी उपलब्ध नहीं है। विभाग के इंजीनियर इन चीफ देवी रजक ने औरंगाबाद के चीफ इंजीनियर को सोन नहर प्रणाली के पटना मुख्य नहर के बलिदाद लॉक पर तत्काल पानी की आपूर्ति बढ़ाने का निर्देश दिया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पानी की भी लोड शेडिंग