DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस के निर्देशों का पालन नहीं कर रहे साइबर कैफे संचालक

स्वतंत्रता दिवस की सुरक्षा तैयारियों को लेकर पुलिस ने साइबर कैफे  को कड़े दिशा निर्देश जारी किए हैं। लेकिन सख्त हिदायत के बाद भी कैफे संचालक इनका पालन नहीं कर रहे। पुलिस तो कहती है कि नियमों की अनदेखी करने वालों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्रवाई की जाएगी। लेकिन हकीकत जुदा है।

हिन्दुस्तान संवाददाता ने बुधवार को एनएच-5 के कई साइबर कैफे के चक्कर लगाए। संचालक से इंटरनेट यूज करने के लिए कंप्यूटर देने को कहा। लेकिन उनमें से किसी ने उसका पहचान पत्र नहीं मांगा। उनका रिश्ता पैसा लेने तक रहा। किसी कैफे में वहां रखे रिकॉर्ड रजिस्टर में भी इसके नाम दर्ज नहीं किए गए। जबकि पुलिस की ओर से इसकी सख्त हिदायत है। नियमानुसार कैफे में सीसीटीवी कैमरे भी लगे होने चाहिए। मुहल्ले में चलने वाले कैफे में इसकी व्यवस्था नहीं होती। एक संचालक का कहना है कि उनके पास जान-पचान के लोग आते हैं। इसलिए फार्मलिटी की जरुरत नहीं पड़ती। एक ने सीसीटीवी कैमरा महंगा और आमदनी कम होना इसका कारण बताया।
गौरतलब है कि पिछले साल अक्टूबर में तत्कालीन एसएसपी श्रीकांत जाधव ने साइबर कैफे संचालकों को सुरक्षा के लिहाज से कैफे में सीसीटीवी कैमरे लगाने समेत, आने-जाने वालों का ब्योरा रजिस्टर में दर्ज करने की हिदायत दी थी। इसके बावजूद अधिकांश कैफे संचालकों ने इसे गंभीरता से नहीं ले रहे। स्वतंत्रता दिवस को लेकर फिर ऐसी हिदायतें जारी की गईं। फिर भी उनके कानों पर जूं नहीं रेंग रही। एसीपी क्राइम कुलदीप सिंह का कहना है कि निर्देशों का पालन कराने के लिए साइबर कैफों में छापेमारी की जाएगी। गलत पाए जाने पर इसके संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
--------------
क्या हैं निर्देश?
- साइबर कैफे में सीसीटीवी कैमरे होना जरुरी
- कैफे में आने वाले का पूरा ब्योरा रजिस्टर में नोट करना
- निममित व नए ग्राहकों के परिचय पत्र की फोटो कॉपी ब्योरे के रुप में रखना
- ग्राहकों के फोटो खींचकर उसे रिकॉर्ड रुप में कंप्यूटर में सुरक्षित रखना
- संदिग्ध ग्रहकों के बारे में तत्काल संबंधित थाना पुलिस को सूचित करना

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पुलिस के निर्देशों की अवहेलना कर रहे साइबर कैफे संचालक