DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ों ने बचाया बाजार

औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ों ने बचाया बाजार

खराब मानसून और स्वाइन फलू की चिंता में शेयर बाजार बुधवार को एक बार फिर लुढ़कते-लुढ़कते कुछ हद तक संभल गया। बाजार में शुरू में आई तेज गिरावट को जून में औद्योगिक उत्पादन बेहतर रहने के समाचारों ने संभाल लिया और सेंसेक्स 15,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे जाने से बच गया।

बाजार बंद होने के समय सेंसेक्स में 54 अंक की हल्की गिरावट थी जबकि एक समय यह करीब साढे तीन सौ अंक टूट गया था। कारोबार के दौरान बीएसई का तीस शेयर आधारित सेंसेक्स कारोबार के दौरान 340 अंक की गिरावट के साथ 14,701 तक लुढ़क गया। हालांकि बाद में यह सुधरा और अपेक्षाकृत 54.43 अंक की गिरावट दर्शाता हुआ 15020.16 पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 13.85 अंक टूटकर 4,457.50 पर बंद हुआ। सरकार ने जून में औद्योगिक उत्पादन संबंधी आंकड़े दोपहर बाद जारी किए जिसमें इसमें 7.8 प्रतिशत वृद्धि दर्शाई गई है।

बोनांजा पोर्टफोलिया के सह उपाध्यक्ष अविनाश गुप्ता ने कहा कि बाजार में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिला। खनन कंपनियों पर लेवी बढाने के समाचार से बाजार में चिंता देखी गई जो बाद में दूर हो गई।

बाजार सूत्रों का कहना है कि मानसून खराब रहने के अनुमानों और स्वाइन फलू के प्रसार के समाचारों के बीच सुबह भारी बिकवाली हुई और बाजार लुढ़कता दिखा।
बिकवाली दबाव से टाटा स्टील, टीसीएस, एचयूएल, इन्फोसिस टेक, हिंडाल्को, ओएनजीसी व स्टरलाइट के शेयर हानि के साथ बंद हुए। वहीं, लिवाली समर्थन मिलने से भारती एयरटेल, टाटा मोटर्स, डीएलएफ और सन फार्मा के शेयर में लाभ दर्ज किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:औद्योगिक उत्पादन के आंकड़ों ने बचाया बाजार