DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वाइन फ्लू मरीजों के लिए अलग सेक्आइसोलेशन वार्ड तैयार

स्वाइन फ्लू के मरीजों अलग के लिए यहां के सरकारी अस्पताल में अलग सेक्आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया है। इसमें छह बिस्तर सहित अन्य सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। फ्लू के संभावित मरीजों की जांच के लिए बी.के अस्पताल भेजा जाएगा।  उधर, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान की ओर से स्थानीय शाखा में फ्लू संबंधी किसी प्रकार का कोई दिशा निर्देश नहीं आया है।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एवं हरियाणा स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से चलने वाले यहां के सरकारी अस्पताल में स्वाइन फ्लू के मरीजों के लिए जांच का कोई इंतजाम नहीं है। दोनों संस्थाओं ने मिलकर वार्ड में एक आइसोलेशन वार्ड तैयार किया है। जिसमें छह बिस्तर लगाए गए हैं। इसमें आक्सीजन का भी इंतजाम किया गया है। इस वार्ड में मरीज के अलावा किसी बाहरी आदमी को प्रवेश नहीं करने की हिदायत दी गई है।

अस्पताल के सभी डॉक्टर,नर्स व अन्य कर्मचारियों को मॉस्क  दिए गए हैं। स्वाइन फ्लू को लेकर एम्स के डॉक्टर के.आनंद का कहना है कि एम्स की ओर से उन्हें कोई आदेश नहीं आए है। उनका कहना है कि फ्लू प्रत्येक वर्ष आता है। प्रत्येक फ्लू को अलग-अलग नाम से पुकारा जाता है। उनका दावा है कि उनके क्षेत्र में स्वाइन फ्लू का कोई मामला सामने नहीं आया है। ओपीडी के डॉक्टरों को हिदायत दी गई कि किसी को सर्दी-जुकाम होने पर वह पहले अपने स्तर पर जांच करें। बीमारी गंभीर लगने पर एम्स रेफर करें।

हरियाणा स्वास्थ्य विभाग के एसएमओ डॉक्टर राजीव बातिस का कहना है कि फ्लू से निपटने के लिए उनकी व एम्स की टीम ने कदमताल मिला लिया है। इस बीमारी से निपटने के लिए टेमीफ्लू दवाई सरकारी तौर मिलने लगी है। एमरजेंसी में डॉक्टरों को इस मामले में खास निर्देश दिए गए हैं। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वाइन फ्लू मरीजों के लिए अलग सेक्आइसोलेशन वार्ड तैयार