DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खूब सजा बाजार विवाह का

खूब सजा बाजार विवाह का

उत्सवों के खास सीजन की शुरुआत हो चुकी है, जिसके साथ ही राजधानी में इन दिनों शादी-ब्याह पर आधारित आयोजनों की गतिविधियां बढ़ गयी हैं। हाल ही में राजधानी के होटल अशोक में साल की सबसे बड़ी एक्जीबिशन सेलिब्रेटिंग विवाह 2009 का आयोजन किया गया, जिसमें नामी फैशन डिजाइनरों के अलावा ज्वेलरी डिजाइनर्स, एक्सेसरीज डिजाइनर्स, ट्रैवल एजेंसीज और वेडिंग शॉपिंग से जुड़े लोगों ने भाग लिया।

गौरतलब है कि शादी-ब्याद की खरीदारी के लिए लोग काफी पहले से तैयारियां शुरू कर देते हैं। यह अहम आयोजन उन्हीं के लिए था। तीन दिन तक चले इस आयोजन में लोगों ने शादी-ब्याह से जुड़ी हर वो खरीदारी की, जिसके लिए उन्हें बाजारों के चक्कर लगाने पड़ते थे। अगर फैशन ट्रेंड की बात करें तो इस बार विवाह 2009 में कई नए डिजाइनरों ने भाग लिया। इनमें ब्राइडल संग्रहों, ट्रजो और कोतूर संग्रहों पर काम करने वाले फैशन डिजाइनर अधिक थे। नए डिजाइनरों में कपिल एवं मोनिका, मनु एंड ममता (बेला रग्गाजा), मयूर रस्तोगी (लिवाना), राज कुमार गुप्ता (श्रीनाथ डायमंड्स) थे।

इस खास मौके पर आयोजित एक फैशन शो के दौरान इन डिजाइनों के संग्रहों को भी पेश किया गया। होटल ताज पैलेस में आयोजित एक शानदार शाम के दौरान इन संग्रहों को पेश करते हुए अभिनेत्री प्राची देसाई शो स्टॉपर के रूप में मौजूद थीं। प्राची ने कपिल एवं मोनिका के संग्रह को रैम्प पर पेश किया। मोटे तौर पर कहा जाए तो विभिन्न फैशन डिजाइनरों ने अपने संग्रहों के दौरान पारंपरिक भारतीय दुल्हन के लिबास को एथनिक टच देने के साथ-साथ उसे आधुनिक स्टाइल में भी पेश करने की पूरी कोशिश की। शो के दौरान न केवल दुल्हनों, बल्कि खास उत्सव पर पहने जाने वाले परिधानों को भी पेश किया गया। इनमें साड़ी, लहंगा, शरारा और घाघरा-चोली प्रमुख थे। इन नए डिजाइनरों ने अपने संग्रह में रंगों का चुनाव काफी खूबसूरती से किया था, जिसकी एक झलक लिवाना के संग्रह में देखी जा सकती है। कारीगरी के लिहाज से रेग्गाजा का संग्रह काफी बढ़िया रहा और इनके साथ गहनों की छटा बिखेरी श्रीनाथ डायमंड्स ने। इस बार गहनों के ट्रेंड में मोती जड़े नेकलेस और सॉफ्ट टच ज्वेलरी का चलन ज्यादा देखने को मिला।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:खूब सजा बाजार विवाह का