DA Image
2 अप्रैल, 2020|9:30|IST

अगली स्टोरी

दो टूक

पिछले दो-तीन दिन स्वाइन फ्लू का खौफ फैलाने वाले रहे हैं। पर इतना तय है कि स्वाइन फ्लू जैसी बला से घबराकर तो मुकाबला नहीं ही किया जा सकता। इसके लिए जरूरी है हौसला, जागरूकता और तालमेल। प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री ने निगरानी की कमान खुद ले ली है तो लोगों में भरोसा तो बढ़ेगा ही।

लोगों को इस रोग से बचने और हो जने पर इलाज के बारे में जागरूक भी किया जा रहा है। लेकिन इस पूरी मुहिम का नतीजा तो स्वास्थ्य विभाग और अस्पतालों के बीच तालमेल ही तय करेगा। और फिलहाल अस्पतालों का जो हाल है, वह लोगों को आश्वस्त नहीं करता। जरूरी है कि जिस शिद्दत से योजनाएं बनती हैं, उसी तत्परता से जमीन पर भी उतरें।