DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डॉक्टर की सलाह से लें दवा ल्ल इलाज के लिए 14 अस्पताल तैयार

मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने एच1 एन1 वायरस से होने वाले फ्लू के मामले में साफ करते हुए कहा है कि स्थिति पूरी नियंत्रण में है, इससे किसी को भयभीत होने की जरूरत नहीं है। स्कूलों को भी बंद करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने लोगों से कहा है कि वे बिना डॉक्टर की सलाह के दवा न लें और जानकारी के लिए हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। पूरे मामले के कोआर्डिनेशन के लिए नोडल अफसर की नियुक्ति की गई है।

स्वाइन फ्लू से निपटने की तैयारियों व इलाज को लेकर रविवार को दिल्ली सरकार के मंत्रिमंडल की बैठक की गई। दिल्ली के 14 अस्पतालों में स्वाइन फ्लू के इलाज की व्यवस्था की गई है, जिसमें 11 दिल्ली सरकार के, दो केंद्र सरकार के और एक एमसीडी अस्पताल है।

मुख्यमंत्री ने लोगों को सलाह दी है कि उन्हें भयभीत होने की जरूरत नहीं है तथा स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा जारी निर्देशों का पालन करें। अभिभावकों व स्कूलों से कहा गया है कि वे बच्चों को इस फ्लू के लक्षणों के बारे में बताएं ताकि भयभीत होने की कोई गुंजाइश न रहे। फ्लू की जानकारी के लिए कंट्रोल रूम बनाया गया है जो 24 घंटे काम करेगा। लोग हेल्पलाइन नंबर 011-23921401 पर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा कोआर्डिनेशन के लिए एक राज्य स्तरीय नोडल अफसर व एक अतिरिक्त नोडल अफसर की नियुक्ति की गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बाजार में उचित दाम पर तीन लेयर का मास्क काफी मात्र में उपलब्ध है। लोगों से कहा गया है कि पीड़ित होने की दशा में वे अस्पताल व घर पर केंद्र सरकार के निर्देशों का पालन करें तथा किसी भी साधारण फ्लू की दशा में बिना डॉक्टर की सलाह के दवा न लें। इसके साथ ही स्कूलों को भी बंद नहीं करने का फैसला लिया गया है।

हालांकि स्कूलों को प्रधान सचिव (शिक्षा) की तरफ से भेजी गई सलाह में फ्लू के बारे में जानकारी दी गई है कि ताकि वे बच्चों को इस बारे मे शिक्षित कर सकें। अगर कोई स्कूल बंद करना जरूरी समझता है तो वह इस बारे में पूरे ब्यौरे व कारणों के साथ शिक्षा निदेशालय से संपर्क कर सकता है। मालूम हो कि करीब 178 मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है जबकि 58 का अभी इलाज चल रहा है

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘स्वाइन फ्लू से भयभीत न हों’