DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुराने सदस्यों की घर वापसी पर किया जा सकता है विचार

भाजपा छोड़ कर गये कार्यकर्ताओं की घर वापसी पर विचार किया जा सकता है पार्टी को ऐसे कार्यकर्ताओं को वापस लेने में कोई संकोच नही है लेकिन पार्टी से निष्कासित सदस्यों की बहाली पर संगठन की अनुशासन समिति ही अंतिम निर्णय करेगी।

यह बात प्रदेश के भाजपा महामंत्री तीरथ सिंह रावत ने पत्रकारों से कही। महामंत्री ने कहा कि संगठन ने पौड़ी जिले में 30 हजार सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा है। सदस्यता अभियान में प्रदेश के मुख्यमंत्री व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भी एक एक बूथ पर सदस्य बनायेंगे और इसी तरह से सरकार के मंत्री व भाजपा विधायक भी सदस्यता अभियान को पांच दिन का समय देंगे।

एक प्रश्न के उत्तर में भाजपा महामंत्री ने कहा कि काबीना मंत्री राजेन्द्र भंडारी के विवादास्पद बयान के बारे में संगठन को कोई जानकारी नहीं है। प्रदेश महामंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं कि भंडारी ने कर्णप्रयाग विधानसभा को शिवानंद नौटियाल के बाद से नेतृत्वविहीन बताया है। इस कारण उन्होंने किसी भी प्रकार की टिप्पणी करने से भी साफ इंकार किया।
भाजपा के प्रदेश महामंत्री तीरथ सिंह रावत आज पार्टी के सदस्यता अभियान के तहत पौड़ी पहुंचे थे। पत्रकार वार्ता में तीरथ सिंह रावत नई सरकार के कामकाज के बारे में भी कोई सटीक टिप्पणी करने से बचते दिखे। खण्डूड़ी सरकार में शुरू हो चुकी 108 व सचल चिकित्सालय जैसी योजनाओं को ही कल्याणकारी बताते हुए उन्होंने निशंक सरकार के कामकाज पर कोई टिप्पणी नहीं की। अलबत्ता नए बजट को संतुलित बता सरकार के कार्य पर इतनी ही टिप्पणी की।

प्रदेश महामंत्री ने बताया कि पार्टी का सदस्यता अभियान शुरू होने जा रहा है। जिसके लिए इस बार संगठन ने कठोर मानक तय किये हैं। परिवारवाद हावी न हो इसके लिए एक ही कुनबे के सारे सदस्यों को पार्टी सदस्य बनाने से बचा जायेगा। यह प्रयास किये जायेंगे कि सक्रिय व पार्टी के प्रति समर्पण भाव रखने वाले लोगों को ही सदस्य बनाया जाए। उन्होंने कहा कि जिन लोगों की संगठन के प्रति श्रद्घा नहीं है ऐसे लोगों को किसी भी हाल में सदस्य नहीं बनाया जाएगा। इसके लिए बाद में सदस्यता अभियान का सत्यापन दो सदस्यीय समिति भी करेगी।

इस अभियान के लियें पार्टी के विधायकों व मंत्रियों से भी कम से कम पांच दिन का समय मांगा गया है। स्वयं मुख्यमंत्री व प्रदेश अध्यक्ष बूथस्तर पर सदस्य जोड़ेंगे। शहरों में यह अभियान बूथ से शुरू होगा जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम समितियों से। लोकतांत्रिक व्यवस्था के तहत भाजपा में भी संगठन के चुनाव होने हैं। इस लिहाज से यह अभियान काफी महत्वपूर्ण है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:घर वापसी पर किया जा सकता है विचार