DA Image
26 जनवरी, 2020|7:48|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घर का अहसास बना रहे

शिविर में आए दिल्ली के संत परमानंद हॉस्पिटल के मनोचिकित्सक डा.राजेश गोयल का कहना है कि घर की अवधारणा हमें सुरक्षा का बोध कराती है। लेकिन कई परिवारों में आज भी तनावपूर्ण स्थिति बच्चे दिल में घर के प्रति एक नगेटिव अहसास पैदा कर दे रही है।

ऐसा बच्च व्यस्क होने पर भी आम तौर पर नार्मल नहीं देखा गया है। ऐसे में हर परिवार का दायित्व है कि बच्चे के अंदर घर यानि सुरक्षा का भाव बनाए रखे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:घर का अहसास बना रहे