DA Image
25 फरवरी, 2020|12:17|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कीमतों में बढ़ोतरी से थाली में घटी दाल की मात्रा

दालों की आसमान छूती कीमतों ने लोगों को दाल कम खाने पर मजबूर कर दिया है।

उद्योग मंडल ऐसोचैम के एक अध्ययन में कहा गया कि 1960 के दशक में दाल की प्रति व्यक्ति खपत 27 किलोग्राम सालाना थी। यह जनवरी़-जून 2009 की अवधि में घटकर 11 किलो से भी कम हो गई है।

ऐसोचैम ने कहा कि दाल की बढ़ती कीमतो ने आम परिवारों को दाल कम खाने पर मजबूर कर दिया है। इस साल की पहली छमाही में दाल की खपत घटकर 11 किलो प्रति व्यक्ति से भी कम हो गई है। अध्ययन में कहा गया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन में दाल के उत्पादन पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया गया।

ऐसोचैम ने कहा इसका नतीज यह है कि दाल का उत्पादन गिर गया और अब कीमतों में बढ़ोतरी के कारण दाल आम आदमी की थाली से लगभग गायब हो गई है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:कीमतों में बढ़ोतरी से थाली में घटी दाल की मात्रा