DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बंदर पकड़ने वालों को भी नरेगा में शामिल किया जाए: हिमाचल सरकार

बंदरों और कुछ अन्य जानवरों के आतंक से त्रस्त हिमाचल प्रदेश सरकार ने केन्द्र से आग्रह किया है कि बंदर पकड़ने वाले लोगों को नरेगा में शामिल कर लिया जाए।

राज्य के ग्रामीण विकास और पंचायती राज सचिव श्रीकांत बालदी ने कहा कि केन्द्र के ग्रामीण विकास मंत्रालय को उन्होंने एक आग्रह पत्र भेजा है, जिसमें राखा (जानवर पकड़ने वाले) को दैनिक मजदूर के तौर पर नरेगा में शामिल करने का आग्रह किया गया है। उनका मानना है कि इससे फसलों को बंदरों और अन्य जानवरों से सुरक्षित रखा जा सकेगा।

इस पत्र में राखा को पंचायत में चौकीदार की श्रेणी में रखने का सुझाव दिया गया है।

इस संदर्भ में ग्रामीण विकास राज्य मंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि फसलों को बंदरों और अन्य जनवरों से हो रहा नुकसान बड़ी समस्या है और विभाग ने अपने वन एवं बागवानी विभाग को मिलकर काम करने को कहा है।

एक अनुमान के अनुसार राज्य भर में करीब तीन लाख बंदर हैं। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार को लगातार किसानों से जानवरों द्वारा फसल बर्बाद किए जाने की शिकायतें मिल रहीं हैं। इस समस्या के स्तर को देखते हुए बंदरों से निपटने के लिए सरकार ने धरपकड़ अभियान शुरु किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बंदर पकड़ने वालों को नरेगा में शामिल करने की मांग