DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीपीएम का आंदोलन सम्पन्न, रविवार को माले और सीपीआई सड़क पर

वाम दलों ने बाढ़ और सुखाड़ दोनों ही मुद्दे पर नीतीश सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया है। लोकसभा चुनाव साथ लड़ने वाले तीनों ही वाम दलों के आंदोलन के मुद्दे भी एक हैं पर आंदोलन की तिथियां उन्होंने अलग-अलग घोषित की है। पूरे महीने वाम कार्यकर्ता सरकार के खिलाफ अलख जगाएंगे।

 प्रदेश को सुखाग्रस्त घोषित करने के लिए सीपीएम ने शनिवार को जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन किया। प्रदेश सचिव विजयकांत ठाकुर ने दरभंगा में प्रदर्शन का नेतृत्व किया। पटना में जिला सचिव रास बिहारी सिंह ने प्रदर्शन की कमान संभाली। अब19 अगस्त को पटना में माकपा राज्यस्तरीय प्रदर्शन करेगी जिसमें केन्द्रीय नेता एस आर पिल्लै और वृन्दा करात भी शामिल होंगी।

माले ने 9 अगस्त से 48 घंटे का उपवास और 11 अगस्त को जिला मुख्यायलों में प्रदर्शन का एलान किया है। सीपीआई भी 9 अगस्त को पूरे सूबे में सड़क पर उतर प्रदर्शन करेगी। 27 से 29 अगस्त को प्रखंड मुख्यालयों पर प्रदर्शन होगा और प्रशासन के अधिकारियों का घेराव किया जाएगा। राज्य सरकार द्वारा भूमि सुधार आयोग की रिपोर्ट पर सीधी कार्रवाई न कर कमेटी बना देने के मामले को भी उन्होंने आंदोलन के मुद्दे में शामिल कर लिया है।

तीनों ही दलों ने राज्य सरकार पर शिथिलता का आरोप लगाया है। उनका आरोप है कि राज्य सरकार ने पिछले वर्ष के बाढ़ से सीख नहीं ली। उसके अधिकारी बेलगाम हैं। बागमती के टूटे तटबंध का दौरा कर लौटे माले के नेताओं ने यहां तक कहा कि प्रशासन अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए तटबंध तोड़ने का आरोप लगा रहा है। सीपीएम का कहना है कि बागमती, कमला, गंडक आदि नदियों के तटबंधों की मरम्मत की 80 फीसदी राशि भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गयी है। पिछले वर्ष बाढ़ की प्रलय लीला के बाद भी जर्जर तटबंधों की नाम मात्र की मरम्मत हुई।

ऐसे में राज्य सरकार को गलतबयानी करने के दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करनी चाहिए। सीपीआई का कहना है कि राज्य सरकार डीजल सब्सिडी और कई तरह की घोषणा कर किसानों को ठग रही है। न तो किसानों को खाद मिल रहा है और न ही गांवों में अब तक अनवरत बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित हो पायी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बाढ़-सुखाड़ मुद्दे पर वाम दलों का आंदोलन शुरू