DA Image
27 फरवरी, 2020|3:49|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘अब पाक नहीं कर सकता ड्रोन हमलों का विरोध’

‘अब पाक नहीं कर सकता ड्रोन हमलों का विरोध’

पाकिस्तानी तालिबान के प्रमुख बैतुल्ला मसूद के मारे जाने की खबरों की पुष्टि के बाद दक्षिण एशिया मामलों की एक अग्रणी अमेरिकी विशेषज्ञ ने कहा कि पाकिस्तान अब लंबे समय तक अमेरिकी ड्रोन विमानों के इस्तेमाल का विरोध नहीं कर सकता।

विशेषज्ञ लीसा कर्टिस ने कहा कि मसूद के खात्मे के कारण अब पाकिस्तान के लिए यह तर्क देना मुश्किल होगा कि ड्रोन विमानों का इस्तेमाल उसके देश में सुरक्षा में सहायक साबित नहीं हो रहा। मसूद सैकड़ों हत्याओं आत्मााती हमलों और यहां तक कि पाक राष्ट्रपति असिफ अली जरदारी की पत्नी बेनजीर भुट्टो की हत्या के लिए भी जिम्मेदार था।

वाशिंगटन स्थित थिंक टैंक हेरीटेज फाउंडेशन के एशियन स्टडीज सेंटर में दक्षिण एशियाई मामलों की वरिष्ठ रिसर्च फेलो कर्टिस को कांग्रेस समितियों द्वारा विभिन्न दक्षिण एशियाई मु्द्दों पर चर्चा के लिए अक्सर बुलाया जाता रहा है।

उन्होंने कहा कि मसूद की मौत पाकिस्तान के सीमावर्ती कबाइली इलाकों में ड्रोन हमलों के इस्तेमाल के बारे में चर्चा को बदल सकती है। इससे अमेरिका और पाकिस्तान की आतंकवाद विरोधी भागीदारी के खिलाफ पाकिस्तानी लोगों के गुस्से को शांत करने में मदद मिलेगी।

बीते समय में पाकिस्तानी नेता कबाइली इलाकों में अमेरिकी मिसाइल हमलों का सार्वजनिक रूप से विरोध करते रहे हैं। कर्टिस ने कहा कि पाकिस्तान के कबाइली क्षेत्रों में अमेरिका के ड्रोन हमले अलकायदा की गतिविधियों तथा अफगानिस्तान और पूरी दुनिया में हमलों की उसकी योजना को बाधित करने में कारगर रहे हैं।

अमेरिका के वरिष्ठ खुफिया अधिकारियों का भी मानना है कि लगभग एक सप्ताह पहले शुरू हुए ड्रोन हमलों से अलकायदा के खिलाफ काफी सफलता मिली है। कर्टिस ने कहा कि हालांकि सिर्फ ड्रोन हमले ही लंबे समय से उस क्षेत्र से संचालित आतंकवाद को खत्म करने में पूरी तरह सफल नहीं होंगे, क्योंकि मारे गए आतंकी नेताओं की जगह कोई और ले लेता है।

आतंकी खतरे के खिलाफ दीर्घावधि वाला लाभ अर्जित करने के लिए पाकिस्तानी सुरक्षाबलों को क्षेत्र में सरकारी शासन स्थापित करने के लिए व्यापक सैन्य कार्रवाई करने की जरूरत है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:‘अब पाक नहीं कर सकता ड्रोन हमलों का विरोध’