DA Image
31 मई, 2020|2:50|IST

अगली स्टोरी

लखनऊ जेल तोड़ने पर रोक

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती को उस वक्त तगड़ा झटका लगा जब सुप्रीम कोर्ट लखनऊ जेल को तोड़ने और उसके कैदी निर्माणाधीन जेल में शिफ्ट करने पर रोक लगा दी। राज्य सरकार सवा सौ साल से ज्यादा पुरानी इस जेल को तोड़कर इसकी जगह इको पार्क बनाना चाहती है। लेकिन याचिकाकर्ता का कहना है कि सरकार यहां अंबेडकर पार्क बनाना चाहती है।

मुख्य न्यायाधीश जस्टिस केजी बालाकृष्णन और एसबी सिन्हा (शुक्रवार को रिटायर) की खंडपीठ ने कहा कि सरकार जेल के मामले में दो हफ्ते तक यथास्थिति बनाए रखे और उसमें न तो तोड़फोड़ करे। न ही कैदियों दूसरी जगह को शिफ्ट करे। कोर्ट ने कहा कि आश्चर्य की बात है कि सरकार अर्धनिर्मित जेल में कैदियों को शिफ्ट करना चाहती है, क्या ऐसी जेल से कैदी भाग नहीं जाएंगे।

खंडपीठ ने यह आदेश संगम लाल पांडे की याचिका पर दिया। राज्य सरकार के वकील वरिष्ठ अधिवक्ता केके वेणुगोपाल, मायावती के करीबी सहयोगी वरिष्ठ अधिवक्ता सतीश मिश्रा और अतिरिक्त एडवोकेट एसके द्विवेदी ने खंडपीठ से काफी आग्रह किया कि उन्हें कैदियों को शिफ्ट करने दिया जाए और पुरानी जेल पर यथास्थिति का आदेश न दिया जाए।

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:लखनऊ जेल तोड़ने पर रोक