DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुढ़ैला में आगजनी और पुलिस पर हमला

शहर का बाहरी इलाका मुढै़ला (चुरामनपुर) शुक्रवार सुबह आगजनी और हिंसा की भेंट चढ़ गया। बेकाबू ट्रक से कुचलकर एक स्कूली छात्रा की मौत और पुलिस के देर तक न आने से गुस्साई भीड़ ने करीब दो घंटे तक उपद्रव किया। भीड़ के गुस्से की भेंट चढे करीब दो दर्जन ट्रकें और दो पुलिस वाहन। उपद्रवियों ने तीन गाड़ियों को फूंक दिया।

घटना की कवरेज करने गए चार मीडियाकर्मियों को भी दौड़कर पीटा गया। करीब दो घंटे से ज्यादा समय तक चले ‘तांडव’ में चार पुलिसकर्मी भी घायल हो गए। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठीजार्ज करना पड़ा। इस मामले में पुलिस ने करीब चार सौ अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है और 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। मौके पर पीएसी तैनात कर दी गई हैं। हादसे और उपद्रव से उपजे हालात के बाद मुढ़ैला से भुल्लनपुर तक की दुकानें बंद रहीं।

सड़क हादसे की शिकार मड़ौली निवासी जितेंद्र बहादुर पटेल की बेटी पूजा (14) नौवीं कक्षा की छात्रा थी। मंडुआडीह थाना क्षेत्र के मुढै़ला गांव के पास शुक्रवार की सुबह करीब 7.15 बजे भाई नीरज (17) पूजा को बाइक पर बैठाकर शिवमूर्ति शिक्षण संस्थान, रोहनिया की ओर जा रहा था। मेघना हास्पिटल के सामने एक ट्रक खड़ा था। उससे आगे बढ़ने के लिए नीरज ने बाइक पटरी पर उतार दी। आगे बढ़कर ज्यों ही रोड पर बाइक वापस लानी चाही, पीछे से आते एक ट्रक को देख उसे अचानक ब्रेक लगाने पड़े, जिससे पूजा छिटककर सड़क पर जा गिरी।

पीछे से आ रहे रेह लदे तेज रफ्तार ट्रक ने उसे रौंद दिया। उसकी लाश पहिए में फंसकर करीब 25 फुट तक घिसटती चली गई। रास्ता जाम होने के कारण ट्रक चालक भाग नहीं सका। सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में मुढ़ैला, मड़ौली और चुरामनपुर के लोग मौके पर जुट गए। इतनी देर तक वहां पुलिस क्रेन पहुंचने पर भीड़ उग्र हो गई और जाम लगा दिया। भीड़ ने ट्रक चालक हृदय नारायण पांडेय को बुरी तरह पीटा और ट्रक में आग लगा दी।

इसी बीच भीड़ में शामिल कुछ लोगों ने रास्ते से गुजर रहे ट्रकों पर पथराव शुरू कर दिया। देखते ही देखते करीब दो दर्जन से अधिक वाहनों के शीशे तोड़ दिए गए। इस बीच मीडियाकर्मी भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने फोटोग्राफी करनी चाही तो उपद्रवियों ने उन्हें दौड़कर पीट दिया। इससे मीडियाकर्मी विपिन, शैलैश चौरसिया, रामजी और अमित दत्ता घायल हो गए। करीब एक घंटे बाद 8.30 बजे रोहनिया थानाध्यक्ष सीताराम चौधरी मौके पर पहुंचे। तब हिंसक भीड़ को खदेड़ने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया, मगर काबू न पा सकी।

पुलिस जीप ने आगे बढ़ने की कोशिश की तो उपद्रवियों ने पहले पथराव किया और फिर उसे फूंक डाला। करीब एक घंटे बाद वाहनों में लगी आग बुझई जा सकी। इस घटना में पुलिस जीप का चालक अमिताभ राय, सिपाही मुख्तार, सुनील सिंह और वीरेंद्र सिंह घायल हो गए। उधर मुढ़ैला तिराहे पर खड़ी फैंटम दस्ते की बाइक को भी भीड़ ने फूंक दिया। उपद्रवी तब मौके से तितर-बितर हुए, जब मंडुआडीह व लोहता थाने की पुलिस और पीएसी टीम मौके पर पहुंची। माहौल शांत होने के बाद पुलिस और प्रशासनिक अफसरों ने घटनास्थल का मुआयना किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुढ़ैला में आगजनी और पुलिस पर हमला