DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हत्यारोपी की जमानत याचिका खारिज

दहेज के लिये बहु की हत्यारोपी सास, जेठ व देवर की जमानत याचिका प्रभारी सत्र न्यायधीश गिरधर सिंह धर्मशक्तू ने खारिज कर दी। शासकीय अधिवक्ता वीरेन्द्र तिवारी ने बताया कि वादी विशाल ने 23 जून 09 को कोतवाली गंगनहर रुड़की में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराई थी। दो वर्ष पूर्व उसकी बहन मृतक दिलशाना की शादी आरोपी मुर्तजा पुत्र मजाहिर निवासी ग्राम रामपुर कोतवाली गंगनहर रुड़की के साथ हुई थी।

विवाह में पीड़ित पक्ष ने हैसियत के अनुसार काफी दान दहेज दिया था। लेकिन दिलशाना के ससुराल पक्ष वाले कम दहेज के लिये उसके साथ मारपीट कर उससे मोटर साइकिल व 50 हजार रुपये लाने की मांग करते थे।  15 जून 09 को वादी अपनी बहन को ससुराल मिलने गया था।

जिस पर सास जुलेखा ने वादी को बताया कि दिलशाना अपने पति मुर्तजा और देवर इंतजार के साथ घूमने गई है। काफी तलाश करने पर भी दिलशाना नहीं मिली तो 21 जून 09 में पुलिस को सूचना दी कि आसफनगर झील के पास महिला की लाश पड़ी है।

मौके पर पहुंचने के बाद लाश दिलशाना की थी। वादी ने ससुराल पक्ष पति मुर्तजा, जुलेखा, नसीर, इंतजार के खिलाफ तहरीर दी थी। शासकीय अधिवक्ता और बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं की बहस सुनने के बाद प्रभारी सत्र न्यायालय ने आरोपिय जुलेखा, नसीर और इंतजार की जमानत याचिका खारिज कर दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हत्यारोपी की जमानत याचिका खारिज