DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिए गए पते पर नहीं मिले स्कूल, छात्रों की सूची भी फर्जी निकली

शहर के 150 स्कूलों को ब्लैक लिस्टेड कर दिया गया है। यह सभी स्कूल कागजों में चल रहे थे। सौ से अधिक विद्यालयों को बकायदा मान्यता मिली हुई थी। ब्लैक लिस्टेड स्कूलों के नाम मास्टर डाटा से हटा दिया गया है। यह खुलासा विद्यालयों की जाँच में हुआ है। नगर शिक्षा अधिकारी ने पिछले दिनों शहर के सभी विद्यालयों की जाँच के आदेश दिए थे। इसके लिए टीम गठित की गई।

शहर में करीब तीन हजार प्राथमिक व जूनियर हाईस्कूल हैं। जाँच में पाया कि लगभग 150 विद्यालय कागजों में चल रहे हैं। स्कूल प्रबंधक द्वारा जिस क्षेत्र में स्कूल का पता दिया गया, वहाँ स्कूल का नामोनिशान नहीं था। इसके अलावा प्रबंधकों द्वारा छात्र-छात्रओं की जो सूची गई वह पूरी तरह  फर्जी थी। माना जा रहा है कि स्कूल प्रबंधकों ने ये सब छात्रवृत्ति सहित अन्य सुविधाएँ प्राप्त करने के लिए किया था, जिसका पर्दाफाश जाँच के दौरान हो गया।

जाँच में यह भी पता चला कि सौ से अधिक विद्यालयों को मान्यता भी मिली हुई थी। जाँच के बाद कागजों में चल रहे 150 विद्यालयों को ब्लैक लिस्टेड कर दिया गया है। साथ ही बेसिक शिक्षा परिषद के आला अफसरों की संस्तुति के बाद सभी विद्यालयों के नाम मास्टर डाटा से हटाने का काम पूरा कर लिय गया है। उल्लेखनीय है कि छात्रवृत्ति वितरण का माँग पत्र न देने पर सात सौ विद्यालयों की मान्यता खत्म करने की संस्तुति की जा चुकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कागजों में चल रहे 150 स्कूल ब्लैक लिस्टेड