DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो फुट और सूखी कीठम झील

कीठम झील का पानी हफ्ते भर में दो फुट और नीचे पहुँच गया है। इससे ङील के पानी पर आश्रित जीव-जन्तुओं के जीवन पर संकट मंडराने लगा है। पानी में मौजूद जलचरों के लिए ऑक्सीजन की कमी हो गयी है। मछलियों की जान पर बन आई है। आगरा कैनाल में पानी नहीं आने का खामियाजा कीठम के जलचरों को भुगतना पड़ रहा है।

कीठम के अधिकारी लगातार सिंचाई विभाग से गुहार लगा रहे हैं लेकिन अब तक नहर में पानी नहीं आ सका है। बीते सप्ताह भर में कीठम का जल स्तर दो फुट और नीचे खिसक गया। मौजूदा जल स्तर 12 फुट है। यह ङील के न्यूनतम जल स्तर से सात फु ट नीचे है। पानी का स्तर नीचे गिरने से ङील में रहने वाले जीवों (मछलियों व घोंघों-सीप) की जान पर बन आयी है।

सीप व घोंघों की मौत भी हो रही है। यह पक्षी विहार में बसेरा करने वाले पक्षियों का स्वाभाविक आहार हैं। ऐसे में पक्षियों के सामने भी भोजन की समस्या पैदा हो गयी है। बताया जाता है कि मथुरा जिले के किसान अपनी फसलों को सींचने के लिए नहर का पानी जबरन मोड़ रहे हैं।

इससे कीठम तक पानी नहीं पहुँच रहा है। कुछ दिनों बाद ही इस पक्षी विहार में विदेशी पक्षियों के आने का दौर शुरू हो जायेगा। ऐसे में सूखी ङील उनका ठिकाना बन पायेगी यह सवाल पक्षी विहार के कर्मचारियों से लेकर पक्षी प्रेमियों को परेशान करने वाला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो फुट और सूखी कीठम झील