class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वार्ता में कृष्णा ने उठाया नस्ली हमले का मुद्दा

वार्ता में कृष्णा ने उठाया नस्ली हमले का मुद्दा

विदेश मंत्री एसएम कृष्णा की ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री केविन रूड के साथ शुक्रवार को हुई बैठक में ऑस्ट्रेलिया में अध्ययन कर रहे भारतीय छात्रों पर हमलों की बढ़ती घटनाओं पर भारत की चिंताओं को गंभीरता से उठाया गया तथा दोनों पक्षों ने परमाणु ऊर्जा और व्यापार में सहयोग जैसे अन्य मुद्दों पर भी चर्चा की।

छात्र मुद्दे पर भारतीय चिंताओं से अवगत कराने के लिए ऑस्ट्रेलिया गये पहले कृष्णा ने उत्तरी ऑस्ट्रेलियाई शहर में पैसेफिक आइलैंड फोरम के इतर रूड और ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री स्टीफन स्मिथ से मुलाकात की। विदेश मंत्री ने कहा कि भारत ऑस्ट्रेलिया में अपने छात्रों की सुरक्षा को लेकर काफी चिंतित हैं।

उन्होंने बैठक के बाद स्मिथ के साथ हुए साझा संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उनके समक्ष आने वाली किसी भी समस्या से न केवल ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले व्यापक भारतीय समुदाय बल्कि भारत में भी काफी चिंता पैदा होती है। कृष्णा ने बुधवार से शुरू हुई अपनी पांच दिवसीय ऑस्ट्रेलिया यात्रा के बारे में कहा कि इसका मकसद छात्रों के लिए शीर्षस्थ स्तर से आश्वासन हासिल करना है।

अन्य मुद्दों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि भारत को अपनी बढ़ी ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए पर्यावरण अनुकूल ढंग से परमाणु बिजली के उपयोग में विस्तार करने की जरूरत है। कृष्णा ने कहा कि हमने भारत को यूरेनियम की आपूर्ति मुद्दे पर ऑस्ट्रेलिया के रुख पर गौर किया। हम ऑस्ट्रेलिया के सहमत होने पर उसके साथ असैन्य परमाणु सहयोग करने पर इच्छुक रहेंगे।

उन्होंने कहा कि हम आईएईए और एनएसजी में ऑस्ट्रेलिया के सहयोग के लिए उसके शुक्रगुजार हैं। एनएसजी की छूट मिलने के बाद हम अमेरिका, फ्रांस और रूस जैसे भागीदारों के साथ असैन्य परमाणु सहयोग में प्रगति कर रहे हैं।

विदेश मंत्री ने कहा कि भारत और ऑस्ट्रेलिया विभिन्न क्षेत्रों विशेषकर ऊर्जा एवं संसाधनों में द्विपक्षीय व्यापार एवं निवेश में सहयोग बढ़ाने पर केन्द्रित है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों की अर्थव्यवस्था काफी हद तक परस्पर अनुपूरक है। उन्होंने कहा कि मुक्त व्यापार समझौता व्यवहार्यता अध्ययन कराने के बारे में हमारा निर्णय, दोनों अर्थव्यवस्थाओं के बीच व्यापार एवं निवेश के विकास की जिस बड़ी संभावना को हम देख रहे हैं, उसका एक संकेत है।

ऑस्ट्रेलियाई विदेश मंत्री स्मिथ ने कहा कि कैनबरा चाहता है कि भारत के साथ संबंध आगे बढ़े। स्मिथ ने कहा,  हमने आज की बैठक के दौरान द्विपक्षीय मुद्दों के सभी पहलुओं पर बातचीत की। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया भारत ढांचागत वार्ता के तहत अक्तूबर में भारत आने का न्यौता मंजूर कर लिया।

छात्र मुद्दे पर स्मिथ ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया विदेशी छात्रों के लिए सुरक्षित गंतव्य बना हुआ है। उन्होंने कहा, हमने शिक्षा की गुणवत्ता सहित कुछ नये मुद्दों पर चर्चा की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वार्ता में कृष्णा ने उठाया नस्ली हमले का मुद्दा