DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैबिनेट में होगा फेरबदल

कैबिनेट में होगा फेरबदल

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह संसद के मौजूदा सत्र की समाप्ति के बाद अपने ढाई माह पुराने मंत्रिमंडल में सीमित फेरबदल करने पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं। सरकार के शीर्ष हलकों ने इस बात के स्पष्ट संकेत दिए हैं। तृणमूल कांग्रेस को इस फेरबदल में एक और मंत्री पद का तोहफा मिलना तय है। तीसरी बार सांसद बने तृणमूल के सुदीप बंधोपाध्याय का मंत्री बनाया जाना है।

सूत्रों के मुताबिक ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री को सुदीप को मंत्री बनाने की संस्तुति कर दी है। उड़ीसा से कांग्रेस सांसद श्रीकांत जेना को पदोन्नति देने का मसला भी विचाराधीन है। संयुक्त मोर्चा सरकार में जेना कैबिनेट मंत्री थे। उन्हें मनमोहन मंत्रिपरिषद में मामूली राज्यमंत्री बनाकर लटका दिया गया। कांग्रेस के राजनीतिक प्रबंधकों भी अपनी गलती का हुआ लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने इस संवाददाता से बातचीत में संकेत दिया कि जेना के बाबत जो गलती हुई है, उसे दुरस्त किया जाना जरूरी है। इस लोकसभा में तृणमूल के 19 सांसद जीते हैं। लेकिन उसके मात्र छह सांसद ही मंत्री बने हैं। जबकि उससे कम संख्या वाले डीएमके के सात लोग केंद्रीय मंत्रिपरिषद में विराजमान हैं। डीएमके व टीमएमसी के इसी असंतुलन को दूर करना सरकार के राजनीतिक प्रबंधकों की प्राथमिकताओं में है।

केंद्रीय मंत्रिपरिषद की संख्या लोकसभा की कुल सदस्य संख्या यानी 543 का 15 फिसदी तक हो सकता है। यानी केंद्र में कोई भी सरकार 82 मंत्री बना सकती है। मौजूदा समय में मनमोहन की टीम में कुल  78 सदस्य हैं। यानी तीन चार और लोगों को मंत्री बनाने की गुंजाइश बची है। 

दो माह के संक्षिप्त कार्यकाल में मनमोहन सिंह अपनी टीम के कुछ सदस्यों के कामकाज को लेकर नाराज भी बताए जा रहे हैं माना जा रहा है कि सरकार ने 100 दिन की जिस कार्ययोजना का खाका तैयार किया था, उसमें कुछ मंत्री खरे नहीं उतर पाए ऐसे भी संकेत हैं कि एक दो मंत्रियों को हटाया जा सकता है।

कौन हटेंगे, इस बारे में स्थिति स्पष्ट नहीं हैं। सरकार को करीब छह प्रदेशों में राज्यपालों की भी नियुक्ति करनी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैबिनेट में होगा फेरबदल