class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बच्चे करेंगे जांच, विदेशी वैज्ञानिक बनाएंगे रिपोर्ट

वेस्ट यूपी के स्कूली बच्चे इलाके में बहने वाली नदियों, तालाबों और कुएं के पानी की जांच करेंगे। पानी की गुणवत्ता और प्रदूषण की मौजूदा स्थिति की वैज्ञानिक रिपोर्ट तैयार करेंगे। तैयार की गई विस्तृत रिपोर्ट नीदरलैंड भेजी जाएगी। जिसके आधार पर दुनिया के जाने-माने पानी और पर्यावरण विशेषज्ञ विश्व भर में पानी की मौजूदा गुणवत्ता से जुड़ी रिपोर्ट तैयार करेंगे।

वेस्ट यूपी में पानी की जांच का जिम्मा नीर फाउंडेशन को सौंपा गया है। फाउंडेशन के रमन त्यागी बताते हैं कि बीस अगस्त से नदियों की पानी का सैंपल इकट्ठा कर जांच शुरू कर दी जाएगी। जांच खास नीदरलैंड से भेजी गई अत्याधुनिक कीट से की जाएगी। वेस्ट यूपी के मेरठ, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर और मुजफ्फरनगर से करीब चार सौ सैंपल इकट्ठा कर उनकी जांच की जाएगी।

जिसके तहत पानी की पारदशिर्ता से लेकर उसमें डिजाल्व ऑक्सीजन की मौजूदा मात्र, पानी की पीएच वैल्यू और पानी का तापमान की जांच की जाएगी।

उन्होंने बताया कि मार्च में तुर्की में हुए वल्ड वाटर फोरम में पहुंचे विदेश संगठनों से हुई बातचीत के दौरान वेस्ट यूपी में पानी की जांच की बात तय हुई। गंगा जमुना के दोआब का इलाका होने की वजह से विदेशी विशेषज्ञों ने इस इलाके के पानी का अध्ययन करने में रूचि दिखाई है।

वैसे संस्था नदियों के अलावा, नहर, कुएं और तालाबों के पानी की मौजूदा स्थिति से जुड़ी रिपोर्ट भी तैयार कर रही है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बच्चे करेंगे जांच, विदेशी वैज्ञानिक बनाएंगे रिपोर्ट