DA Image
20 जनवरी, 2020|11:46|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘आवास का कोई सिस्टम ही नहीं’

 सभापति ताराकांत झा ने अधिकारियों के साथ बैठक की तो कई चौंकाने वाले तथ्य भी सामने आए। सभापति यह जानकर हैरान हो गए कि कर्मचारियों के आवास के लिए कोई सिस्टम ही नहीं है और न ही कोई कानून है।

आवास आवंटन में कोई निश्चित प्रक्रिया का भी पालन नहीं किया गया है। इसके कारण कई कर्मचारी 30 वर्षो की सेवा के बाद भी सरकारी आवास नहीं प्राप्त कर सके हैं जबकि कई कर्मचारियों को तीन वर्ष की सेवा में ही सहजता से आवास आवंटित हो गई है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:‘आवास का कोई सिस्टम ही नहीं’