अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दूसरे बैंक के एटीएम पर चार्ज नहीं

देश की बैकिंग व्यवस्था अब जल्द ही अगले दौर में प्रवेश करने जा रही है। यह मामला आपके फायदे से जुड़ा है। जी-हां, अब आगामी पहली अप्रैल से आपको दूसर बैंकों के एटीएम उपयोग पर भी कोई चार्ज नहीं देना होगा। रिार्व बैंक गर्वनर डॉ.डी.सुब्बाराव ने इसका रोडमैप तैयार कर दिया है। अब इसे देश के सभी बैंकों को लागू करना है। मतलब यह कि अगर आप वसुंधरा इलाके में रह रहे हैं और आपके पास पीएनबी का एटीएम कार्ड तो है लेकिन उसकी एटीएम मशीन नहीं तो आप बाकायदा अपने पड़ोस के एसबीआई एटीएम में जाकर ट्रांजक्शन कर सकेंगे और वह भी बिलकुल मुफ्त। अभी तक इस प्रकार के प्रति ट्रांजक्शन में सामान्य तौर पर 20 रुपये लगते हैं। ऐसे में आपने अगर अपनी सुविधा के लिहाज से महीने में पांच बार भी प्रयोग किया तो आपको 100 रुपये का शुल्क वहन करना होगा। सामान्य तौर पर अभी विभिन्न बैंक एटीएम कार्ड पर 50 रुपये से 200 रुपये प्रति माह तक वसूल करते हैं। लेकिन दूसर बैंक के एटीमएम उपयोग पर इसके लिए अलग से शुल्क वहन करना पड़ता है। दरअसल रिार्व बैंक ने इसका रोडमैप साल भर पहले तय किया था जो अब लागू होने जा रहा है। व्यावहारिक रूप से अब सभी बैंकों के एटीएम नेटवर्क को एक ही सेंटर से जोड़ दिया जाएगा। इसका नाम नेशनल फाइनेंशियल स्विच कहा जा रहा है। अभी तक विभिन्न बैंक एटीएम शेयरिंग में राजस्व की भी शेयरिंग करते हैं। इसमें प्रति ट्रांजक्शन लगभग आधा-आधा पैसा बांट लिया जाता है। लेकिन पहली अप्रैल के बाद हर बैंक को इसकी लागत खुद वहन करनी होगी। यानी ग्राहकों के स्तर पर तो यह सेवा मुफ्त रहेगी लेकिन बैंकों को आपस में इसका लेनदेन करना पड़ेगा। उदाहरण के तौर पर एसबीआई के एटीमएम का उपयोग करने की हालत में पीएनबी के ग्राहकों को कोई लागत वहन नहीं करनी होगी लेकिन पीएनबी को यह लागत वहन करनी होगी और इसकी लागत उसे एसबीआई को देनी होगी। एसबीआई को इसलिए क्योंकि वह एटीएम मशीन के रखरखाव में ज्यादा खर्च करगा। बैंक अधिकारियों के मुताबिक इसके लिए न सिर्फ ज्यादा मात्रा में धन की उपलब्धता सुनिश्चित करनी होगी बल्कि मशीन की मरम्मत आदि पर भी ज्यादा खर्च आएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: दूसरे बैंक के एटीएम पर चार्ज नहीं