DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दलाल स्ट्रीट पर मंदड़ियों का बोलबाला, सेंसेक्स लुढ़का

दलाल स्ट्रीट पर मंदड़ियों का बोलबाला, सेंसेक्स लुढ़का

मुद्रास्फीति में कमी तथा विदेशों से सकारात्मक रुख के बावजूद प्रमुख शेयरों में बिकवाली के चलते बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स गुरुवार को लगभग 390 अंक टूटा। सेंसेक्स में 18 जुलाई के बाद से सबसे बड़ी गिरावट है।

कारोबारियों का कहना है कि विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बाजार से हाथ खींच लिए हैं। इसके अलावा मानसून के खराब रहने की अटकलों का नकारात्मक असर भी बाजार धारणा पर रहा।

बीएसई का तीस शेयर आधारित सेंसेक्स कारोबार के दौरान 15,969.81 और 15,443.22 के व्यापक दायरे में रहने के बाद 389.80 अंक टूटकर 15,514.03 अंक पर बंद हुआ। कारोबारियों का कहना है कि एशियाई तथा यूरोपीय बाजारों से बेहतर रुख ने जहां घरेलू बाजार का संबल दिया वहीं आटो, रीयल्टी, एफएमसीजी और धातु खंड के शेयरों में भारी बिकवाली ने इसे तोड़ दिया।

नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफटी भी 108.65 अंक टूटकर 4,585.50 पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 4,718.15 और 4,559.20 के दायरे में रहा।

कारोबारियों का कहना है कि एनएचपीसी के आईपीओ से पहले खुदरा निवेशकों ने बिकवाली की जिससे प्रमुख शेयरों में गिरावट आई। सूचकांक आधारित 30 में से 28 शेयरों में गिरावट आई। घरेलू ब्रोकरेज फर्म शेयरखान ने कहा कि रीयल्टी सहित प्रमुख शेयरों में बिकवाली से सेंसेक्स 390 अंक टूटा।

मुद्रास्फीति की दर 25 जुलाई को समाप्त सप्ताह में और घटकर (नकारात्मक) 1.58 प्रतिशत हो गई। बिकवाली दबाव के चलते टाटा मोटर्स, हिंडाल्को, मारूति सुजूकी, हीरो होंडा, स्टरलाइट इंडस्ट्रीज, ओएनजीसी तथा आरईएल काम के शेयर हानि के साथ बंद हुए। सूचकांक आधारित शेयरों में केवल सनफार्मा तथा विप्रो में ही लाभ दर्ज किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दलाल स्ट्रीट पर मंदड़ियों का बोलबाला, सेंसेक्स लुढ़का