DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्टेट बैंक में ओवर ड्राफ्टिंग से 40 करोड़ की धोखाधड़ी

स्टेट बैंक में ओवर ड्राफ्टिंग से 40 करोड़ की धोखाधड़ी

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की मुख्य शाखा में एक निजी निवेश कंपनी द्वारा बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से ओवर ड्राफ्टिंग कर करीब चालीस करोड़ रूपये की धोखाधड़ी करने की बात सामने आई है। स्टेट बैंक के आलाअधिकारियों ने सतर्कता विभाग की सिफारिश पर शाखा के उप महाप्रबंधक और सहायक महाप्रबंधक समेत आठ अधिकारियों और कर्मचारियों को निलंबित कर दिया तथा मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की बात कही है ।
    
स्टेट बैंक के लखनऊ सर्किल के महाप्रबंधक अरूण सरीन ने पत्रकारों को बताया कि कानपुर की एस आर एस निवेश कंपनी के बैंक की मुख्य शाखा में कई खाते हैं। इसके अलावा अन्य बैंकों में भी खाते हैं। इस कंपनी का एक पेट्रोल पंप भी है।
    
उन्होंने बताया कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि एस आर एस कंपनी के लोग स्टेट बैंक से चेक क्लीयरिंग से पूर्व ही रूपये ले लेते थे और बाद में दो तीन दिन बाद चेक क्लीयर होने पर बैंक के अधिकारी गुपचुप तरीके से बैंक में पैसा जमा करा देते थे। यह काम इस वर्ष जनवरी 2009 में पहले हजारों रूपये से शुरू हुआ बाद में जून 2009 तक ओवर ड्राफ्टिंग का यह मामला करोड़ो रूपये तक पहुंच गया और बैंक में पैसा जमा ही नही हुआ ।
    
उन्होंने बताया कि स्टेट बैंक की सतर्कता टीम की प्रारंभिक जांच में करीब 40 करोड़ रूपये के हेरफेर की बात सामने आई है लेकिन अभी चूंकि जांच चल रही है इसलिये यह रकम और बड़ी हो सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्टेट बैंक में ओवर ड्राफ्टिंग से 40 करोड़ की धोखाधड़ी