DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कमर और पीठ दर्द-2

कल हमने इस बात पर चर्चा की कि कमर दर्द होने का कारण क्या होता है। आज हम उसी के आगे चर्चा करेंगे। कमर व पीठ दर्द की समस्या से निजता पाना कोई असंभव काम नहीं है। इसके लिए आपको अपनी जीवन शैली और खानपान की आदतों में बदलाव करने की आवश्यकता पड़ सकती है। रोगों को नियंत्रण में रखकर व उनका उचित उपचार भी इस रोग से छुटकारा दिलाने में सहायक हो सकता है। इन बिन्दु़ओं पर अमल करके इस रोग से बचा जा सकता है -

- हमें बैठते समय कमर को सीधा रखना चाहिए। पीठ को कम से कम झु़काना ही उचित है। यदि हम जमीन से कोई वस्तु उठा रहे हैं तो बजाय झुकने के घुटनों के बल बैठकर उस वस्तु को उठाना चाहिए। ज्यादा भारी वस्तु को उठाने की कोशिश कभी न करें।

- रसोईघर या मेज कुर्सी पर बैठकर काम करते समय पीठ को अधिक न मोड़ें, सीधे खड़े होकर या बैठकर काम करें।

- आरामदायक फोम के गद्दे भले ही कुछ समय के लिए आपको भले लगें पर इनके नियमित प्रयोग से आप कमर व पीठ दर्द की समस्या से ग्रस्त हो सकते हैं। अच्छा तो यही है कि सोने के लिए सख्त व समतल बिस्तर का प्रयोग करें।

- ऊंचे हील के जूते-चप्पल पहनने से बचें।

- अधिक वजन लेकर न चलें, यदि वजन अधिक हो तो दोनों हाथों में बराबर बांटकर चलें, जिससे एक तरफ को झुकना न पड़े।

- घुटनों के बल काम करते समय अपनी पीठ को बिल्कुल सीधी रखें और इसे मोड़ने से बचाए रखें।

- गलत तरीके से (जिनमें हमारी कमर की हड्डी प्रभावित हो या उसमें खिंचाव आदि आए) उठने, बैठने, लेटने, चलने, खड़े होने या सफर करने से बचें।

- दर्द की स्थिति में आवश्यक व्यायाम, योग व फिजियोथेरेपी प्रभावशाली भूमिका निभाते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कमर और पीठ दर्द-2