DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रसड़ा के ऐतिहासिक रोट पूजन में उमड़ी भीड़

सिद्ध संत श्रीनाथ बाबा की जन्म व उनकी समाधिस्थली महराजपुर में ऐतिहासिक रोट पूजन श्रावणी पूर्णिमा के दिन बुधवार को उत्साह के वातावरण में सम्पन्न हुआ। इस पूजन के दौरान लखनेश्वर परगना के चौदह कोस की दूरी में बसने वाले सेंगर वंश के क्षत्रिय समुदाय के अलावा अन्य सभी जाति-धर्मो के हजारों लोग अपने-अपने गांवों से श्रीनाथ बाबा व रोशन शाह बाबा की जय-जयकार लगाते हुए श्रीनाथ मठ महराजपुर पहुंचे।

वहां श्रीनाथ बाबा के गगनभेदी उद्घोष के बीच भक्तों ने आपस में लाठियां लड़ाते हुए मंदिर की पांच बार परिक्रमा की। इसके बाद प्रसाद (रोट) ग्रहण कर अपने-अपने गांव लौट गये। हिन्दू-मुस्लिम एकता के प्रतीक ऐतिहासिक रोट पूजन के आरम्भ होने से पहले श्रीनाथ मठ महाराजपुर के आयोजक मंडल सहित गांव के श्रीनाथ भक्त सर्वप्रथम रसड़ा के रोशन शाह की मजार पर जाकर चादर व प्रसाद चढ़ाते हैं।

जनपद के विभिन्न क्षेत्रों से श्रीनाथ भक्तों का पूजनस्थल पर पहुंचने का सिलसिला प्रात:काल से शुरू हो गया, जो देर शाम तक चलता रहा। इस रोट पूजन की परम्परा निराली है। इस पूजा के महासंग्राम में सैकड़ों गांवों से आये भक्त झुंड बनाकर हाथों में बड़ी-बड़ी लाठियां लेकर रास्तेभर जगह-जगह रुककर लाठी लड़ाते बाबा की जयकार लगाते अनुशासित तरीके से चलते हैं।

इस रोट पूजन में आयोजक मंडल के संरक्षक शिवनाथ सिंह, सदस्य रुद्र प्रताप सिंह, सतीश सिंह, चन्द्रशेखर सिंह, बलवंत सिंह, अवधेश सिंह, रवीन्द्र यादव, विनय सिंह, निर्भय सिंह सहित श्रीनाथ मठ रसड़ा के महंथ स्वामी आनंद गिरि जी महाराज व श्रीनाथ मठ महराजपुर के महंथ स्वामी अवध बिहारी महराज आदि उपस्थित थे। इस अवसर पर बड़ी संख्या में पुलिस बल जगह-जगह तैनात किया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बलिया में श्रीनाथ बाबा के भक्तों ने लड़ाईं लाठियां