DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगा पर बांध बनाये जाने का शंकराचार्य ने विरोध किया

देश के शंकराचार्यों, संतों एवं धर्माचार्यों ने पवित्र गंगा नदी पर बड़े बांध बनाये जाने का विरोध करते हुए इसकी पवित्र और अविरल धारा को नैसर्गिक रूप में बरकरार रखने की मांग की तथा गंगा की रक्षा के लिए आज से आमरण अनशन पर बैठने की घोषणा करने वाले सुप्रसिद्ध पर्यावरणविद प्रोफेसर जी डी अग्रवाल से फिलहाल अपना अनशन स्थगित करने की अपील की ।
    

ज्योतिष एवं शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती, पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती एवं श्रंगेरी के स्वामी भारती तीर्थ महास्वामी ने अपने लिखित संदेश में गंगा नदी की नैसर्गिक धारा को रोकने वाले बांधों के निर्माण पर विरोध जताते हुए गंगा की पवित्रता की रक्षा के लिए प्रधानमंत्री से हस्तक्षेप करने का आज अनुरोध किया। शंकराचार्यों एवं अन्य संतों ने प्रोफेसर जी डी अग्रवाल से भी अनुरोध किया है कि वह गंगा की रक्षा के लिए आज से प्रारंभ किये जाने वाले अपने आमरण अनशन को स्थगित कर दें ।
     

शंकराचार्यों ने अपने बयान में कहा है कि गंगा के जल में वायु, भूमि तथा जड़ी बूटियों के नैसर्गिक रूप से सम्मिश्रण से ही उसके औषधीय, आध्यात्मिक तथा भावात्मक गुण उत्पन्न होते हैं लेकिन यदि इस जल को सुरंगों एवं बांधों में बांध कर प्रवाहित किया जायेगा तो उसका महत्व खत्म होना तय है। प्रोफेसर अग्रवाल ने कल यहां घोषणा की थी कि गंगा की रक्षा के लिए वह आज से आमरण अनशन पर बैठेंगे ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गंगा पर बांध बनाये जाने का शंकराचार्य ने विरोध किया