class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैंने हमेशा मन से काम किया: राइमा सेन

मैंने हमेशा मन से काम किया: राइमा सेन

आप तो हिंदी की बजाय बंगला फिल्मों को लेकर ज्यादा व्यस्त हैं?
ऐसी कोई बात नहीं है। मैं तो अब भी हिंदी की फिल्में ज्यादा कर रही हूं। बंगला की तो सिर्फ दो फिल्में हैं, जिनमें से एक ऋतु दा (तुपर्णो घोष) की फिल्म की शूटिंग लगभग पूरी हो चुकी है। इसमें हम दोनों बहनों ने एक साथ काम किया है।

आपको आपकी बहन से ज्यादा प्रतिभाशाली माना जाता है?
मैं इस मामले में खुशनसीब हूं कि मैंने अब तक जिन फिल्मों में भी काम किया है, उनमें मेरे काम की तारीफ जरूर हुई है। मगर रिया के साथ ऐसा नहीं हुआ और न ही उसे अच्छे मौके ही मिले। वैसे मुझे पूरा यकीन है ऋतु दा की फिल्म में उसका टैलेंट खुल कर सामने आएगा। शायद इस फिल्म में मुझसे ज्यादा उसकी तारीफ होगी। मैं हमेशा उसे अपने आप से एक कदम आगे देखना चाहती हूं।

बतौर हीरोइन आप दोनों की ही इमेज बिल्कुल जुदा रही है?
यह तो काफी हद तक इस बात पर निर्भर करता है कि आपको किस तरह के कैरेक्टर करने को मिल रहे हैं। रिया को शुरू से ही ग्लैमर लुक वाले कैरेक्टर ज्यादा करने को मिले हैं। जिस दिन रिया को कुछ चैलेंजिंग करने का मौका मिलेगा, वो अपने आपको प्रूव करने में पूरी तरह से सक्षम साबित होगी।

दो बहनों के बीच का यह आपसी प्यार आज के दौर में बहुत कम देखने को मिलता है?
अलग-अलग मूड के होने के बावजूद हम दोनों इतने करीब हैं कि वास्तव में हम एक लगते हैं। हमारी उम्र में सिर्फ एक साल का फर्क है। मैं उससे एक साल बड़ी हूं, मगर वो हमेशा मुझ पर धौंस जमाती रही है। मुझे उसका यह धौंस जमाना हमेशा अच्छा लगा।

आपने टैलेंट की बात कही है, फिर भी आप स्टारडम के दौर में इतना पीछे क्यों रह गयीं?
सच कहूं तो इसका जवाब मेरे पास बिल्कुल नहीं है। मुझे जो भी काम दिया गया, उसे मैंने हमेशा मन से किया, कोई शर्त नहीं रखी। मेरे काम की तारीफ भी काफी हुई, पर उस हिसाब से मेरे पास फिल्में नहीं आयीं, जैसी मैंने उम्मीद जोड़ रखी थी।

क्या फ्लॉप फिल्मों ने आपकी अच्छी परफॉर्मेस को एक दायरे में कैद कर दिया है?
इसके लिए आप आर्टिस्ट को तो दोष नहीं दे सकते। मुझे तो यही लगता है कि यहां तो सिर्फ हिट फिल्म की नायिका की कद्र होती है। इस मामले में हिट फिल्मों ने मेरे साथ दगा की है।

फिर भी आप ‘मेरे ख्बावों में जो आये..’ जैसी नीरस फिल्मों में काम कर लेती हैं?
असल में जब तक कोई फिल्म पूरी नहीं हो जाती, उसके स्तर का सही आकलन करना मुश्किल होता है, जबकि हम सभी फिल्म के सब्जेक्ट और अपने रोल को सुन कर उसमें काम करने का मन बनाते हैं।

क्या आपने यह फिल्म अपने प्रिय दोस्त रणदीप हुड्डा की वजह से की थी?
यदि ऐसा किया भी तो गलत क्या था। हम दोनों ने ही अपना रोल सुन कर काम करने का मन बनाया था।

आपकी ‘माइग्रेशन’, ‘जैपनीज वाइफ’, ‘सनग्लास’, ‘मेरीडियन’ आदि कई फिल्में रीलिज होने का नाम नहीं ले रहीं?
इसका जवाब तो इन फिल्मों के प्रोडय़ूसर ही दे सकते हैं।                           

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैंने हमेशा मन से काम किया: राइमा सेन