DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यो-यो डायटिंग

यो-यो डायटिंग उस प्रक्रिया को कहते हैं, जिससे आपका वजन बार-बार घटता या बढ़ता रहता है। अब सवाल ये है कि वेट-गेन और वेट-लॉस का ये चक्र हमारे सिस्टम पर क्या प्रभाव डालता है? कुछ अध्ययनों में सामने आया है कि बार-बार वजन कम या ज्यादा होने से शरीर का मसल-मास कम हो सकता है, मेटाबॉलिक रेट धीमी पड़ सकती है और ब्लड प्रैशर बढ़ सकता है। यही नहीं, वजन में बार-बार उतार-चढ़ाव आने से व्यक्ति निराशा में डूब कर नकारात्मक मानसिकता का शिकार भी बन सकता है।

तो क्या इसका मतलब यह माना जाए कि वजन घटाने की कोशिश का सेहत पर उल्टा असर पड़ता है? नहीं। वजन कम करने की कोशिश करने में कोई हर्ज नहीं है। हालांकि मुकम्मल तौर पर कामयाब होने के लिए आपको ऐसी कोशिश कई बार करनी पड़ सकती है। लेकिन अगर खुराक तगड़ी है या आप इसमें जो बदलाव ला रहे हैं, वे बहुत ही अलग हैं, तो सेहत पर विपरीत असर पड़ना तय है।

वजन स्थिर रखने के उपाय
अगर आप चाहते हैं कि आपका वजन कम हो जाए, और यह फिर से न बढ़े, तो इसके उपाय इस प्रकार हैं-

-ऐसी जीवनशैली अपनाएं, जिसमें खुराक और नियमित शारीरिक व्यायाम का तार्किक संतुलन सुनिश्चित हो।
-जायकेदार लेकिन पौष्टिक आहार ही लें।
-एक साथ ज्यादा मात्रा में न खाएं।
-जब भी कुछ खाएं, ठीक से बैठकर और आहिस्ता-आहिस्ता खाएं।
-भूख और खाने की तलब में अंतर करना सीखें।
-अगर आप तनाव में हैं, तो जरूरत से ज्यादा न खाएं।
-शरीर में जल की मात्रा कम न हो, इसके लिए पेय पदार्थ लेते रहें।

नियमित व्यायाम
नियमित तौर पर शारीरिक श्रम और व्यायाम करने से दिल की मांसपेशियों का आकार बढ़ता है, जिससे आपको चलने-फिरने, दौड़ने या सीढ़ियां चढ़ने में कम जोर लगेगा। नियमित व्यायाम से सीरम कोलेस्ट्रॉल कम हो सकता है, जिसका दिल के दौरे या बीमारी पर सीधा असर होता है। दिल के लिए एक सप्ताह में इतनी कसरत करना जरूरी है कि करीब 900 से 1200 कैलोरी बर्न हो जाए।

टहलना : केवल पैदल चलना भी काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। अपनी सुविधा से कहीं भी, किसी भी वक्त एक घंटे पैदल चलने से 300 कैलोरी बर्न होती है।

चढ़ाई : ऊपर चढ़ने से वॉकिंग इंटेंसिटी बढ़ती है, जिससे टांगों और कूल्हों की शेप सही रहती है। एक घंटे चढ़ाई करके आप 400 कैलोरी कम कर सकते हैं।

तैरना : पानी में उतर कर अपनी मांसपेशियों को हरकत में लाइए। इससे पूरे बदन की अच्छी कसरत होती है और एक घंटे में 400 कैलोरी खत्म की जा सकती है।

दौड़ना : रफ्तार की अपनी ताकत होती है। दौड़कर आप इसका अनुभव कर सकते हैं। एक घंटे दौड़ने से आपके शरीर में 400 कैलोरी कम हो जाती हैं।

गर चाहते हैं क्रिएटिव बनना. . .
क्या अपनी जन्मभूमि से दूर विदेश जाकर रहने वाले प्रवासी ज्यादा क्रिएटिव हो जते हैं? अगर कैलॉग स्कूल ऑफ मैनेजमेंट के शोधकर्ताओं की मानें, तो इसका जवाब है, हां।

‘जर्नल ऑफ पर्सनैलिटी एंड सोशल साइकोलॉजी’ में प्रकाशित इस अध्ययन से ये भी सामने आया कि विदेश जाकर पढ़ने वाले छात्रों की क्रिएटिविटी इस बात पर भी निर्भर करती है कि वे कितने समय तक विदेश में रहे हैं। जो छात्र जितने अधिक समय तक विदेश में रहते हैं, वे उतने ही अधिक रचनात्मक कार्य करते हैं।

ये अध्ययन ‘डंकर कैंडल प्रॉब्लम’ के जरिए बड़े दिलचस्प तरीके से अंजाम दिया गया था। इसके तहत एमबीए के छात्रों को कबर्ड वॉल के पास टेबल पर रखी एक मोमबत्ती, माचिस की एक डिबिया और एक टैक बॉक्स दिखाया गया। उनसे कहा गया कि जलती हुई मोमबत्ती को दीवार पर इस प्रकार लगाएं कि इसका मोम पिघलकर टेबल या फर्श पर न गिरे, और मोमबत्ती बुझने भी न पाए। इसका सही तरीका था, टैक बॉक्स को खाली करके दीवार पर चिपका देना और इसके अंदर मोमबत्ती लगा देना यानी कैंडल होल्डर की तरह इसका इस्तेमाल करना। इस समस्या का समाधान विदेश में ज्यादा वक्त रह चुके छात्रों ने बड़ी आसानी से दे दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:यो-यो डायटिंग