DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रदूषण से फ्रिज से लेकर दीवारें तक काली

इन दिनों घर के फ्रिज में रखी मिठाइयों से लेकर दीवारों पर कालिख दिखने लगी है। रक्षाबंधन के दिन फ्रिज में रखी मिठाइयां अगर काली पड़ने लगी तो इसके सेवन से बचे हैं। ये काली परते स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती हैं।


हाल ही में हुए एक सर्वे में पाया गया कि वाहनों की संख्या में अप्रत्याशित बढ़ोत्तरी होने से नोएडा-ग्रेटर नोएडा में ऑटोमोबाइल पोल्यूशन बढ़ रहा है। यही कारण है कि इनके धुंए से निकलने वाले पोल्यूटेंटस घर की दीवारों व बरतने आदि काले पड़ जाते हैं। चाहे नोएडा को सेक्टर 14 ए हो अथवा ग्रेटर नोएडा के गामा वन का अफसर फ्लैटस- ये प्रदूषण के बढ़ते स्तर का ही आलम है कि इनकी दीवारे और बरतनों पर काली-काली परते जम जाती हैं। अथॉरिटी के अधिकारी भी इन चीजों से इत्तेफाक रखते हैं। गामा वन,अल्फा व धूमाणिकपुर औद्योगिक क्षेत्र में पोल्यूशन का स्तर बढ़ने से लोगों का जीना दुश्वार हो गया है। धूमाणिकपुर से निकलकर गामा वन के नाले में औद्योगिक इकाईयों द्वारा कचड़े छोड़े जाने से यहां की आबादी प्रदूषण के चपेट में है। लेकिन विभाग के अधिकारी इससे मानने से इंकार करते हैं। हालांकि प्रदूषण विभाग के आरओ पारस नाथ यह मानते हैं कि एयर पोल्यूशन में हानिकारक पोल्यूटेंट के मिलने की अधिक संभावना रहती है। उनके अनुसार नोएडा और ग्रेटर नोएडा के इंडस्ट्रियल यूनिकट से निकलने वाले सल्फर डाय आक्साइड और नाइट्रोजन क े आक्साइड निर्धारित मानकों के अनुरुप है। निर्धारित मानकों के अनुसार सल्फर डायक्साइड की मात्र 80 माइक्रो ग्राम प्रति क्यूबिक और नाइट्रस आक्साइड की मात्र 120 माइक्रो ग्राम प्रति क्यूबिक तक है।


एआटीओ के अनुसार जयशंकर तिवारी के अनुसार नोएडा-ग्रेटर नोएडा में इस समय 2 लाख से भी ज्यादा वाहन चल रहे हैं। इनमें करीब ढाई हजार आटो सीएनजी और 500 सीएनजी बसें चल रही है। ये सभी यूरो-3 के मानक को पूरा करते हैँ। प्रदूषण विभाग के सहायक वैज्ञानिक अधिकारी नीरज चतुर्वेदी के अनुसार नोएडा-ग्रेटर नोएडा में 70 फीसदी साफ्टवेयर,हार्डवेयर और स्टीचिंग कंपनियां हैं। ये सभी स्मोक फ्री इंडस्ट्री हैं। अभी तक कोई भी पोल्यूटेंट निर्धारित मानकों से ज्यादा नहीं मिले हैं। पोल्यूशन विभाग के रिकार्ड में ग्रेटर नोएडा होंडा,यमाहा व एलजी जैसी कंपनियों के स्टेक(चिमनियों ) से निकलने वाले एटमोस्फेयरिक पार्टिक्लस भी पोल्यूशन फ्री माने गए हैं लेकिन हकीकत तो कुछ और ही बयां करती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रदूषण से फ्रिज से लेकर दीवारें तक काली