DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपने विभाग से ही लड़ रहा रिटायर क्लर्क

व्यापार कर विभाग से रिटायर सीनियर क्लर्क अपने ही विभाग की अंधेरगर्दी से जूझ रहा है। विभागीय उत्पीड़न से तंग आकर वीआरएस लेने के बाद भी उसे परेशान किया जा रहा है। रिटायरमेंट के बाद मिलने वाले लाभ भी उसे नहीं मिल रहे, उल्टे उसका पुलिसिया उत्पीड़न किया जा रहा है। शिकायत मिलने के बाद राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने राज्य मानवाधिकार आयोग को मामला रेफर कर दिया है।


लाजपत नगर साहिबाबाद निवासी चंद्रप्रकाश भारद्वाज व्यापार कर विभाग आगरा की अधिकरण पीठं में सीनियर क्लर्क के रूप में कार्यरत थे। राज्यपाल और मुख्यमंत्री को भेजी शिकायत में उन्होंने आरोप लगाया कि व्यापार कर विभागाध्यक्ष की दुर्भावना एवं तानाशाही से उत्पीड़ित होकर उन्हें 31 जुलाई,2008 को स्वैच्छिक रिटायरमेंट लेना पड़ा। उसे रिटायर हुए एक साल हो चुका है पर पेंशन, ग्रेच्युटी, जीपीएफ, फंड, जीआईएस फंड और नए वेतनमान के एरियर का एक भी पैसा उसे नहीं मिला। उल्टे 19 मार्च 2009 को राजभवन गेट पर आमरण अनशन का नोटिस देने पर एलआईयू गाजियाबाद ने उसे अपने पास बुलाया। कागजात देखने के बाद न्याय दिलाने का आश्वासन दिया और अनशन करने पर जेल भेजने की धमकी दी। डर कर उन्होंने नोटिस वापस ले लिया। इसके बाद भी साहिबाबाद पुलिस ने तीन दिन तक अवैध हिरासत में रखा। इसकी शिकायत राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में की गई। आयोग ने इस मामले को राज्य मानवाधिकार आयोग को मामला रेफर कर दिया है। न्याय के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहा चंद्रप्रकाश प्रमुख सचिव से लेकर मुख्यमंत्री तक को अपना दुखड़ा सुना चुका है पर आश्वासन के सिवा उसे आज तक कुछ नहीं मिला।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपने विभाग से ही लड़ रहा रिटायर क्लर्क